बाबरी विध्वंस मामला: मुरली मनोहर जोशी बोले- 'कोर्ट का फैसला एतिहासिक, हमारे कार्यक्रम और रैलियां किसी साजिश का नहीं थे हिस्सा'

कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए मुरली मनोहर जोशी ने खुशी जताई। उन्होंने कहा कि लखनऊ की सीबीआई कोर्ट ने एक ऐतिहासिक निर्णय दिया है। वो निर्णय इस बात को सिद्ध करता है कि छह दिसंबर को अयोध्या में हुई घटनाओं में कोई षड़यंत्र नहीं था, वो आकस्मिक था।

By: Karishma Lalwani

Published: 30 Sep 2020, 02:46 PM IST

लखनऊ. अयोध्या में छह दिसंबर 1992 को विवादित ढांचे के मामले में बुधवार को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने फैसला सुना दिया। अदालत ने इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत मुरली मनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi), उमा भारती, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (Kalyan Singh), विनय कटियार (Vinay Katiyar) समेत सभी 32 आरोपियों के बरी कर दिया है। कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए मुरली मनोहर जोशी ने खुशी जताई। उन्होंने कहा कि लखनऊ की सीबीआई कोर्ट ने एक ऐतिहासिक निर्णय दिया है। वो निर्णय इस बात को सिद्ध करता है कि छह दिसंबर को अयोध्या में हुई घटनाओं में कोई षड़यंत्र नहीं था, वो आकस्मिक था।

मुरली मनोहर ने आगे कहा, ''हमारा स्वयं का आंदोलन राम मंदिर निर्माण के लिए किया जा रहा था, बीजेपी के उस वक्त के अध्यक्ष के रूप में मैं सहयोग कर रहा था। इस का उद्देश्य जनजागरण करना और राम मंदिर के लिए देश भर में आंदोलन तैयार करना था और तथ्यों को लोगों के सामने रखना था। हमारे कार्यक्रम और रैलियां किसी साजिश का हिस्सा नहीं थे। हम खुश हैं, सभी को अब राम मंदिर निर्माण को लेकर उत्साहित होना चाहिए।'

ये भी पढ़ें: इस बार कम रही मानसून की मेहरबानी, कहीं जमकर बरसे बदरा तो कहीं बारिश को तरसे जिले

ये भी पढ़ें: बाबरी मामला: कोर्ट की तरफ़ जाने वाले सभी रास्ते बंद, अयोध्या से लेकर मथुरा तक बेहद चौकसी

ये भी पढ़ें: खरीफ फसल के तहत धान खरीद को मंजूरी, ओडीओपी की ब्रण्डिंग के लिए यूपी समेत पूरे देश में खोले जाएंगे रिटेल स्टोर्स

Show More
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned