कोरोनाः एक-एक सांस के लिए जंग, अस्पताल में मरीज, ऑक्सीजन के लिए लाइन में परिजन, सीएम के आदेश जारी

Medical Oxygen Cylinder Dealers In Lucknow कोरोना संक्रमण (Coronavirus in up) के बीच सबसे ज्यादा किल्लत ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) की है।

By: Abhishek Gupta

Published: 21 Apr 2021, 04:55 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.

लखनऊ. Medical Oxygen Cylinder Dealers In Lucknow कोरोना संक्रमण (Coronavirus in up) के बीच सबसे ज्यादा किल्लत ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) की है। इसके अभाव में कई मरीजों की जानें जा रही हैं। नौबत यह है कि मरीज अस्पताल में भर्ती हैं और बाहर परिजन सिलेंडर की तलाश में लगे हैं। यह इसलिए क्योंकि कई बड़े अस्पतालों में भी ऑक्सीजन खत्म है। मरीजों के परिजन को खुद ही इसका इंतजाम करना पड़ रहा है। ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए मंगलवार को लखनऊ में अवध ऑक्सीजन सेंटर ने ऑक्सीजन आपूर्ति शिविर का आयोजन किया। मवइया औद्योगिक क्षेत्र के तालकटोरा रोड स्थित इस केंद्र पर शहर भर के कई लोग ऑक्सीजन खरीदने पहुंचे। औषधीय ऑक्सीजन की उपलब्धता को आसान बनाने के लिए मेहरारू नगर में भी मुहिम चलाई गई, जो लोगों के लिए फायदेमंद साबित हुई। बुधवार को भी इन केंद्रों पर लोगों की भीड़ लगी रही।

ये भी पढ़ें- घबराएं नहीं,पर्याप्त मात्रा में है ऑक्सीजन का उत्पादन:मुख्यमंत्री

जीपीएस सिस्टम से ट्रैक होंगे ऑक्सीजन वाहन-
उत्तर प्रदेश में मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकने के लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को जीपीएस ट्रैकिंग सिस्टम से सभी ऑक्सीजन वाहनों की निगरानी करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी ऑक्सीजन संयंत्रों को पुलिस सुरक्षा प्रदान करें। जीपीएस उपकरणों के माध्यम से ऑक्सीजन वाहनों की निगरानी करें। ब्लैक मार्केटिंग और ऑक्सीजन और अन्य जीवन रक्षक दवाओं की मुनाफाखोरी को रोकने के लिए हर संभव कदम उठाएं।" इसके अलावा, इन अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का भी काम सौंपा गया है कि प्रत्येक अस्पताल में कम से कम 36 घंटे का बैकअप ऑक्सीजन हो।

ये भी पढ़ें- Oxygen Plant : यूपी में अब नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, 15 दिन में स्थापित होंगे 10 नए प्लांट

प्रदेश में आएंगी ऑक्सीजन कैप्सूल-
लखनऊ में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए अब तीन ऑक्सीजन कैप्सूल को भेजा जाएगा। इसके लिए मिलिट्री स्पेशल ट्रेन की मदद ली जाएगी। सेना के लो फ्लोर रैक का इस्तेमाल कर ऑक्सीजन एक्सप्रेस में मेडिकल ऑक्सीजन टैंक को यूपी लाया जाएगा। सेना के अलग-अलग बेस से आए लो फ्लोर रैक पर खाली ऑक्सीजन टैंकर को लोड कर रेलवे ने लखनऊ जंक्शन से उतरेटिया तक ट्रायल शुरू किया। पहला रैक बोकारो भेजेगा। एक रैक में सात ऑक्सीजन टैंकर होंगे। लखनऊ से बोकारो की 805 किलोमीटर की दूरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस का खाली रैक 16 घंटे में पूरी करेगा। मतलब गुरुवार को ऑक्सीजन कैप्सूल लखनऊ आ सकेगा। राज्य सरकार की झारखंड के बोकारो व जमशेदपुर और उड़ीसा के राउरकेला से मेडिकल ऑक्सीजन मंगाने की तैयारी है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned