scriptpresident election in India pm modi thinking on mayawati mulayam singh | राष्ट्रपति चुनाव: 2 बड़े नेताओं पर सबकी निगाहें, PM मोदी, अमित शाह भी दिखा रहें नरमी, नाम फ़ाइनल.. | Patrika News

राष्ट्रपति चुनाव: 2 बड़े नेताओं पर सबकी निगाहें, PM मोदी, अमित शाह भी दिखा रहें नरमी, नाम फ़ाइनल..

भारत के प्रथम नागरिक और तीनों सेना के प्रमुख यानी राष्ट्रपति के चुनाव की घोषणा आज हो चुकी है। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। ऐसे में अभी की नज़रें अब अगला राष्ट्रपति कौन होगा इस पर टिकी हुई हैं। भाजपा के पास सबसे ज्यादा सांसद लोकसभा और राज्यसभा में हैं, जिससे साफ है कि राष्ट्रपति के तौर पर जो भी उम्मीदवार भाजपा की ओर से होगा उसे जीत मिलेगी। जिसमें अंतिम मुहर के तौर पर पीएम मोदी, अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड़ड़ा इसे फ़ाइनल करेंगे। पत्रिका आपको बता रहा है कि उत्तर प्रदेश के ऐसे दो नेताओं के बारें में जिन्हें राष्ट्रपति चुनावों में उम्मीदवार बनाने की संभावना सबसे अधिक है।

 

लखनऊ

Updated: June 09, 2022 03:23:44 pm

President Election 2022 को लेकर सभी पार्टियां एक जुट होकर अपने उम्मीदवार के लिए पैरवी कर रही हैं। हालांकि इसमें सबसे अधिक चर्चा में यूपी के दो ऐसे नेता हैं जिन्हें भाजपा अपना उम्मीदवार बना सकती है। क्योंकि इसकी चर्चाएँ और पार्टी में इनकी पैरवी पिछले 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद से ही चल रही है।
File Photo of PM Modi Home Minister Amit Shah and BJP President on Symbolic Thinking on Presidential Election 2022
File Photo of PM Modi Home Minister Amit Shah and BJP President on Symbolic Thinking on Presidential Election 2022
यूपी में राज करने के लिए भाजपा के पास दो विकल्प

दिल्ली की सत्ता यानी प्रधानमंत्री पद तक पहुंचने के लिए अगर सबसे आसान तरीका है तो उत्तर प्रदेश में पार्टी को मजबूत करना। लेकिन यही सबसे कठिन डगर भी है। क्योंकि सबसे बड़े प्रदेश में 80 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज करना इतना आसान नहीं होगा। बस भाजपा की नज़रें आगामी लोकसभा चुनाव 2024 में अपने धूर प्रतिद्वंदी को समाप्त करने की है। जिससे प्रदेश में लोकसभा में उसे किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो। हालांकि साल 2014 और 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन यूपी में कहीं बेहतर था।
लेकिन 2022 विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को लेकर लोगों में दिखा उत्साह भाजपा के लिए चिंता का विषय है, क्यूंकी सपा को सीट भले ही कम मिली हों लेकिन अखिलेश यादव का क्रेज युवाओं और ग्रामीणों में बना हुआ है। अगर इसमें थोड़ा सा भी जातिगत तड़का लगा तो भाजपा के मिशन लोकसभा में सेंध लग सकती है। इसी वजह से भाजपा अब ऐसे दांव खेलना चाहती है जिससे खुद उसके विरोधियों को सोचने का मौका न मिले। इसके लिए भाजपा दलित और यादवों पर दांव खेलने का मन बना रही है। जिससे दलित या ओबीसी वोटर फिक्स हो जाएगा।
दलितों में सर्वमान्य नेता मायावती

दलितों में सर्वमान्य नेता के तौर पर बसपा सुप्रीमो मायावती को देखा जा रहा है। वो चार बार मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। जबकि यूपी के बीते हुए हाल के विधानसभा चुनाव से ही मायावती पर भाजपा के इशारे पर चलने का आरोप लगता रहा है, जिसमें सपा को हराने के लिए भाजपा की रणनीति पर टिकटों का बंटवारा किया गया। जिसका नतीजा साफ दिखा कि यूपी में योगी सरकार अपना दूसरा कार्यकाल शुरू कर चुकी है यानी भाजपा पूर्णबहुमत से जीतकर आई।
ऐसे में रिटर्न गिफ्ट के तौर पर मायावती को राष्ट्रपति बनाकर वो दलित वोटरों को अपने साथ मिलाने का पूरा प्रयास करेगी। इससे आगामी होने वाली गुजरात, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भी फायदा भाजपा को मिल सकता है। साथ ही उत्तर प्रदेश में दलित वोटरों के पास बसपा या मायावती जैसा विकल्प खत्म हो जाएगा, जिसका सीधा फायदा मायावती की अपील पर सीधे भाजपा को ही होगा। इससे एक बड़े प्रतिद्वंदी के तौर पर मायावती बहुत आसानी से रास्ते से हट जाएंगी।
नेता जी का कोई विकल्प ही नहीं

पूरे देश भर में नेताजी के नाम से मशहूर मुलायम सिंह यादव का कोई विकल्प फिलहाल समाजवादी पार्टी या उसके वोटरों को अभी तक नहीं मिल पाया है। मुलायम सिंह यादव खुद कई बार मुख्यमंत्री और एक बार रक्षामंत्री रह चुके हैं। जबकि अखिलेश यादव मेहनत कर रहे हैं लेकिन यादव और मुस्लिम वोटर अभी भी अखिलेश यादव को नेताजी के बेटे के तौर पर देखता है उनके विकल्प के तौर पर नहीं। क्यूंकी मुलायम सिंह यादव से मिलना उनके वोटर्स का जितना सहज होता था, अखिलेश यादव से मिलना उतना ही कठिन है। मुलायम सिंह यादव जमीनी नेता लोगों के साथ गाँव गाँव मिलकर बनें। लेकिन हाशिए पर आ चुके अखिलेश यादव, ज़मीन पर उतरकर भाजपा से लड़ना तो दूर लोगों से मिल भी नहीं रहे हैं। बस इसी का फायदा भाजपा उठाना चाहती है।
वो मुलायम सिंह यादव को राष्ट्रपति उम्मीदवार बना सकती है। जिससे एक साथ यादव और अन्य ओबीसी वोटर उसके पक्ष में आ जाएगा। अगर ऐसा हुआ तो अखिलेश यादव के राजनीतिक करियर का 50 प्रतिशत समाजवादी वोटर उनसे हमेशा के लिए कट जाएगा। जिसका सीधा फायदा यूपी में भाजपा को ही मिलेगा।
कितने सदस्य जो करेंगे वोट, कौन कब होंगे चुनाव

राज्यसभा और फिर राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति चुनाव। राज्यसभा चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। इसको लेकर सियासी गलियारे में हलचल काफी तेज है। राज्यसभा के तुरंत बाद राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है। लोकसभा, राज्यसभा और अलग-अलग विधानसभा में सदस्यों के आंकड़ों को देखें तो भाजपा काफी मजबूत स्थिति में है। ऐसे में हर किसी की नजर भाजपा के संभावित उम्मीदवार पर टिकी है। राष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा, राज्यसभा के सभी सांसद और सभी राज्यों के विधायक वोट डालते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: जेपी नड्डा के आवास पर पहुंचे देवेंद्र फडणवीस, इस मुद्दे पर हो सकती है चर्चाMaharashtra: ईडी ने शिवसेना नेता संजय राउत को फिर भेजा समन, जमीन घोटाले के मामले में 1 जुलाई को पेश होने के लिए कहाUdaipur में नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट करने पर युवक की गला काटकर हत्या, सोशल मीडिया पर जारी किया वीडियोPunjab: सीएम भगवंत मान का ऐलान, अग्निपथ के खिलाफ विधानसभा में लाएंगे प्रस्ताव, होगा किसान आंदोलन जैसा विरोध!Jammu Kashmir: कुपवाड़ा में LoC के पास भारतीय जवानों ने दो आतंकियों को किया ढेर, भारी मात्रा में गोला-बारूद जब्तहाईकोर्ट ने ब्यूरोक्रैसी को दिखाया आईना, कहा- नहीं आता जांच करना, सरकार को भी कठघरे में किया खड़ाMumbai Building Collapse: कुर्ला कॉम्प्लेक्स हादसे के बाद एक्शन में BMC, इलाके के 3 जर्जर इमारतों को गिराने का आदेशजानिए क्यों ' मुंबई के फैंटम' के नाम से मशहूर थे अरबपति कारोबारी पालोनजी मिस्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.