scriptProcession Ghar and Funeral Site will be Made at every Gram Panchayat | उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या की पहल, उत्तर प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत में बारात घर और अंन्तेष्टि स्थल बनाए जाने की तैयारी | Patrika News

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या की पहल, उत्तर प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत में बारात घर और अंन्तेष्टि स्थल बनाए जाने की तैयारी

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की पहल और उनकी दूरगामी सोच पर उत्तर प्रदेश की सभी 58189 ग्राम पंचायतों में बारात घर और अन्तेष्टि स्थल बनाए का मसौदा तैयार किया गया है और इसका प्रस्ताव बनाकर वित्त विभाग को प्रेषित किया गया है।

लखनऊ

Published: June 11, 2022 05:14:23 pm

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की पहल और उनकी दूरगामी सोच पर उत्तर प्रदेश की सभी 58189 ग्राम पंचायतों में बारात घर और अन्तेष्टि स्थल बनाए का मसौदा तैयार किया गया है और इसका प्रस्ताव बनाकर वित्त विभाग को प्रेषित किया गया है। प्रत्येक बारात घर की लागत 30 लाख रुपये और अंत्येष्टि स्थल की लागत 24 लाख 36 हजार रुपये आंकलित की गई है। इस तरह 58189 ग्राम पंचायतों में बारात घर बनाने में 17456.70 करोड़ और अंत्येष्टि स्थल बनाए जाने में रू 14174.84 करोड़ की धनराशि व्यय होगी। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि बारात घर और अन्तेष्टि स्थल तक सुगमता से पहुंचने के लिए मार्ग बनाए जाने की भी व्यवस्था की जाएगी और वहां पर सामुदायिक शौचालय बनवाने जाने और प्रकाश की भी व्यवस्था जैसी अवस्थापना सुविधाओं का भी विकास किया जाएगा।
deputy-cm-keshav-prasad-maurya-attack-on-priyanka-akhiles-and-mayawati.jpg
Keshav Prasad Maurya File Photo
बारात घरों का निर्माण करवाया जाना अनिवार्य

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलों और विभिन्न क्षेत्रों के उनके भ्रमण के दौरान आम जनता और जनप्रतिनिधियों द्वारा बारात घर और अंन्तेष्टि स्थल बनवाने की मांग की जाती है और इस तरह के सुझाव भी दिए जाते है। मौर्य ने कहा कि जनमानस की परेशानियों के दृष्टिगत यह प्रस्ताव तैयार किया गया है और वर्तमान समय की ग्रामीण जनता की वास्तविक आवश्यकता भी है,क्योंकि पहले जिन घरों के सामने काफी जगह पड़ी रहती थी। वहां बारातों के ठहरने व ग्रामीण संस्कृति से जुड़े विभिन्न परम्परागत कार्यक्रम आसानी से होते रहते थे।
यह भी पढ़ें - खंडहर हो रहे स्मारकों को बचाने की नई नीति, उद्योगपतियों को गोद दिए जाएंगे ऐतिहासिक स्मारक

बढ़ती आबादी के चलते वहां पर आवासीय स्थल बन गये,परिणाम स्वरूप गांवों में अब खुले स्थानों की अपेक्षाकृत कमी हुयी है और आम लोगों विभिन्न आयोजनों के लिए कवर्ड एरिया भी बहुत ही कम है। प्राइमरी स्कूलों में भी बारातो आदि के ठहराने पर रोक भी लाजिमी है क्योंकि इससे शिक्षा व्यवस्था पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। ऐसे में गांवों में बारात घरों का निर्माण किया जाना आज की अनिवार्य आवश्यकता है और यह औचित्यपूर्ण भी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार, देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को ले सकते है सीएम पद की शपथउदयपुर मर्डर : आरोपियों के घर से जब्त की सामग्री, चार और संदिग्ध हिरासत मेंइलाहाबाद हाईकोर्ट से अनिल अंबानी को मिली राहत, उत्पीड़न कार्रवाई पर लगी रोक, जानिए पूरा मामलादो जुलाई से इन सुपरफास्ट ट्रेनों में कर सकेगें जनरल टिकट पर यात्राMaharashtra Political Crisis: उद्धव सरकार गिरने के बाद Twitter पर ट्रेंड कर रहा है 'उखाड़ दिया' हैशटैग, यूजर्स के निशाने पर हैं संजय राउतWorld Athletic Championhip:भारत को बड़ा झटका, सीमा पुनिया, भावना जाट और राहुल चैंपियनशिप से हटेPOLITICS: मध्यप्रदेश की सियासत से परिवारवाद का सफाया शुरू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.