Sawan 2019:बुद्धवार से शुरू सावन का महीना,सावन के पहले गुरूवार को क्या बन रहे हैं योग, जाने इस महायोग को

Sawan 2019:बुद्धवार से शुरू सावन का महीना,सावन के पहले गुरूवार को क्या बन रहे हैं योग, जाने इस महायोग को

Ritesh Singh | Updated: 11 Jul 2019, 12:52:48 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

सावन की तीसरी सोमवारी के दिन नागपंचमी,ध्यान रखने वाली बाते

लखनऊ , बम बम भोले के जयकारे के साथ कांवरियों का समूह बाबा के दर्शन के लिए अपने - अपने घरो से शहरो से निकल चुके हैं। हर किसी को सावन के पहले दिन बाबा भोले नाथ के दर्शन की अभिलाषा लिए सिद्ध मंदिरो में पहुंचने शुरू हो गया हैं। सावन का महीना शुरू होते हैं मौसम भी अपना मिज़ाज बदल लेता हैं चारो तरफ माने हरियाली और शिव के जयकारें सुनाई देते हैं।

सावन में ध्यान रखने वाली बाते

पंडित शक्ति मिश्रा ने बतायाकि इस बार sawan का पहला दिन भगवान् गणेश से शुरू हो रहा हैं इसलिए शिव की उपासना से पहले गणेश की उपासना बहुत ही जरुरी हैं। इससे भगवान् गणेश खुश होते हैं साथ ही उनकी कृपा उस परिवार पर हमेशा बनी रहती हैं। उन्होंने कहाकि इस बार सावन में पंच महायोग बन रहा हैं। जो आपके द्वारा की गयी पूजा पाठ के माध्यम से जीवन पर असर डालेगा।

इस Sawan हैं महायोग

पंडित शक्ति मिश्रा ने बतायाकि सावन माह में इस बार कई शुभ संयोग, हरियाली अमावस्या पर 125 साल बाद पंच महायोग का संयोग सावन माह में इस बार कई शुभ व बड़े संयोग बन रहे हैं। 17 जुलाई को सूर्य प्रधान उत्तराषाढ़ा नक्षत्र से सावन माह की शुरुआत हो रही है। इस दिन वज्र और विष कुंभ योग भी बन रहा है। सावन में चार सोमवार पड़ेंगे। इसके अलावा 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन एक ही दिन मनेगा। उन्होंने कहाकि एक अगस्त को हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग बन रहा है। दावा है कि यह संयोग लगभग 125 साल के बाद आ रहा है।

बहुत दिनों के बाद सावन में कई बड़े संयोग बन रहे हैं। एक अगस्त को हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग बनेगा। जो लगभग 125 साल बाद आ रहा है। इस दिन पहला सिद्धि योग, दूसरा शुभ योग, तीसरा गुरु पुष्यामृत योग, चौथा सर्वार्थ सिद्धि योग और पांचवां अमृत सिद्धि योग का संयोग है। पंच महायोग के संयोग में कुल देवी-देवता तथा मां पार्वती की पूजा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। साथ ही प्रकृति के हरे भरे रहने की संभावना है।

Sawan की तीसरी सोमवारी के दिन नागपंचमी

पंडित शक्ति मिश्रा ने कहाकि इस बार नागपंचमी का शुभ पर्व भगवान शिव के विशेष दिन सोमवार (पांच अगस्त) को है। सोमवार और नागपंचमी दोनों ही दिन भगवान शिव की आराधना की जाती है। इसलिए इस बार नागपंचमी का विशेष महत्व होगा। कहाकि नागपंचमी के दिन चंद्र प्रधान हस्त नक्षत्र और त्रियोग का संयोग भी बन रहा है। सर्वार्थ सिद्धि योग, सिद्धि योग और रवि योग यानी त्रियोग के संयोग में काल सर्प दोष निवारण के लिए पूजा करना फलदायी होता है।

सावन की मुख्य तारीखे

17 जुलाई सावन महीने का पहला दिन बुधवार

22 जुलाई सावन की पहली सोमवारी

29 जुलाई सावन की दूसरी सोमवारी

05 अगस्त सावन की तीसरी सोमवारी

12 अगस्त सावन की चौथी सोमवारी

15 अगस्त सावन माह का अंतिम दिन गुरूवार

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned