शिवपाल ने नहीं मानी मुलायम की बात, खत्म किये सपा से रिश्ते! अखिलेश को भी फालोइंग लिस्ट से हटाया

शिवपाल ने नहीं मानी मुलायम की बात, खत्म किये सपा से रिश्ते! अखिलेश को भी फालोइंग लिस्ट से हटाया

Hariom Dwivedi | Publish: Sep, 05 2018 03:47:05 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

शिवपाल सिंह यादव धीरे-धीरे समाजवादी पार्टी से सारे रिश्ते खत्म करते जा रहे हैं, उन्होंने अखिलेश के अलावा समाजवादी पार्टी के
ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट को भी अनफॉलो कर दिया है

लखनऊ. शिवपाल सिंह यादव धीरे-धीरे समाजवादी पार्टी से सारे रिश्ते खत्म करते जा रहे हैं। उनके आवासों और गाड़ियों पर पहले से ही सपा के झंडे नदारद थे। समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन करते ही उन्होंने अपने ट्विटर प्रोफाइल से भी सीनियर समाजवादी लीडर हटाकर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा, जसवंतनगर विधायक लिख लिया है। शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को ट्विटर पर अनफॉलो कर लिया है। इतना ही नहीं उन्होंने सपा समाजवादी पार्टी के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट को अपनी फॉलोइंग लिस्ट से हटा दिया है। मंगलवार को उन्होंने मुलायम के समाजवादी कुनबे में सुलह के प्रस्ताव को भी अस्वीकार कर दिया।

यह भी पढ़ें : मुलायम का 'चरखा दांव' आजमा रहे अखिलेश-शिवपाल

भले ही शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन कर दिया हो और वह यूपी की सभी लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कर रहे हों, लेकिन इतना सब होने के बावजूद वह समाजवादी पार्टी में बने हुए हैं। मतलब अब तक न तो उन्होंने सपा से इस्तीफा दिया और न ही अखिलेश यादव ने उन पर कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई की है। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि चाचा-भतीजे एक दूसरे के खिलाफ मुलायम सिंह यादव का फेमस 'चरखा दांव' आजमा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : शिवपाल यादव की गाड़ी और घरों से उतारे गये समाजवादी पार्टी के झंडे, देखें वीडियो

सुलह की कोशिशें बेकार!
राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि शिवपाल यादव अब काफी आगे निकल चुके हैं, अब उनका पार्टी में रहना लगभग असंभव सा है। बावजूद इसके मुलायम सिंह यादव ने अभी आस नहीं छोड़ी है। वह अभी भी पहले की तरह मेल-मिलापों के प्रयास में लगे हैं। मंगलवार को सपा के राष्ट्रीय संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल को बुलाया था। सूत्रों की मानें तो मुलायम ने उनके सामने समाजवादी कुनबे में सुलह का प्रस्ताव रखा, जिसे शिवपाल ने अस्वीकार कर दिया। शिवपाल का कहना था कि वह पिछले डेढ़ साल से पार्टी में उपेक्षित हैं। इस बीच उन्हें न तो कोई जिम्मेदारी दी गई और न ही ढंग का पद, जबकि उन्होंने सुलह के तमाम प्रयास किये। इस दौरान शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव से समाजवादी सेक्युलर मोर्चे संग जुड़ने की अपील की।

यह भी पढ़ें : आखिर अखिलेश को किस हद तक नुकसान पहुंचा सकता है शिवपाल का नया सेक्युलर मोर्चा


देखें वीडियो...

 

Ad Block is Banned