UP Board: सिलेबस से हटाया गया कांग्रेस का इतिहास, नेहरू-शास्त्री से जुड़े विषयों को किया बाहर

यूपी बोर्ड (UP Board) के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के सिलेबस से 30 प्रतिशत तक कटौती की गई है। सिलेबस से कांग्रेस के कई अहम पन्नों को हटाने का निर्णय लिया गया है। यूपी बोर्ड के पाठयक्रम से पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) और लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri) से जुड़े किस्से हटाए जाने का निर्णय किया गया है

By: Karishma Lalwani

Published: 29 Jul 2020, 09:53 AM IST

लखनऊ. यूपी बोर्ड (UP Board) के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के सिलेबस से 30 प्रतिशत तक कटौती की गई है। सिलेबस से कांग्रेस के कई अहम पन्नों को हटाने का निर्णय लिया गया है। यूपी बोर्ड के पाठयक्रम से पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) और लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri) से जुड़े किस्से हटाए जाने का निर्णय किया गया है। इस पर कांग्रेसियों ने नाराजगी जताते हुए सिलेबस से हटाए जाने वाले कांग्रेस के अहम इतिहास को दोबारा जोड़ने की मांग की है। लाल बहादुर शास्त्री के पुत्र और कांग्रेसी नेता अनिल शास्त्री ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को पत्र लिखकर यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम से पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और लाल बहादुर शास्त्री से जुड़े विषयों को हटाने पर नाराजगी जाहिर की है।

यूपी बोर्ड से हटाया गया ये पाठ्यक्रम

12वीं कक्षा के नागरिक शास्त्र के कोर्स में 'भारत की राजनीति खंड-क' वाले अध्याय में से पहले तीन आम चुनाव, राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस के प्रभुत्व की प्रकृति, कांग्रेस की गठबंधीय प्रकृति विषयों को हटा दिया गया है। वहीं 'भारत की राजनीति खंड-ख' वाले अध्याय में कांग्रेस कार्यप्रणाली की चुनौतियां से लेकर नेहरू के बाद की राजनीतिक परिपाटी, गैर कांग्रेसवाद, 1967 का चुनाव, कांग्रेस का विभाजन एवं पुनर्गठन, कांग्रेस की 1971 के चुनाव में जीत से जुड़ा पूरा अध्याय भी हटा दिया गया है।

कांग्रेसियों ने जताई नाराजगी

यूपी बोर्ड सिलेबस से कांग्रेस का इतिहास हटाए जाने को लेकर कांग्रेसियों ने नाराजगी जाहिर की है। कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य अनुग्रह नारायण सिंह का कहना है कि यूपी की भाजपा सरकार द्वारा पाठ्यक्रम से कांग्रेस के इतिहास को हटाना आजादी के आंदोलन में अपनी भूमिका नहीं होने की खीझ मिटाना है। भाजपा सरकार आरएसएस के एजेंडे को लागू करना चाहती है और यह उस केस में पहला कदम है।

स्वतंत्रता संग्राम की जानकारी से वंचित रह जाएंगे छात्र

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में इतिहास विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ. हेरंब चतुर्वेदी कहते हैं, “अगर कांग्रेस का इतिहास हटा दिया जाएगा तो विद्यार्थी स्वतंत्रता संग्राम और इसके विविध चरणों की जानकारी पाने से वंचित रह जाएंगे। ऐसे में उनमें राष्ट्रवाद और राष्ट्रप्रेम की भावना नहीं पनपेगी।”

कोर्स तो कम करना ही था

इस मामले में यूपी सरकार का बचाव करते हुए प्रयागराज से भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी का कहना है कि यूपी सरकार को कोर्स तो कम करना ही था। ऐसे में अगर कांग्रेस से जुड़े कुछ तथ्यों को हटाया गया है, तो इसमें ऐतराज नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोर्स में 'भारत का स्वतंत्रता आंदोलन' शामिल है। इसमें विद्यार्थियों को काफी जानकारी मिल जाएगी।

ये भी पढ़ें: यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में बदलाव, 10वीं और 12वीं से हटाए गए ये विषय

Congress
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned