कोरोनाः 12वीं तक के सभी स्कूल 30 अप्रैल तक बंद, धार्मिक स्थलों पर 5 लोग ही जा सकेंगे, जानें सीएम योगी के सभी नए आदेश

रविवार को एक बार फिर प्रदेश में रिकॉर्ड 15,353 लोगों को कोरोना का संक्रमण हो गया।

By: Abhishek Gupta

Published: 11 Apr 2021, 04:18 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.
लखनऊ. रविवार को एक बार फिर प्रदेश में रिकॉर्ड 15,353 लोगों को कोरोना (Coronavirus in UP) का संक्रमण हो गया। यह सोमवार को आए कोविड मामलों (covid cases) से करीब तीन हजार ज्यादा है। बेकाबू होते कोरोना वायरस के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने आक्रामक तरीके से कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। प्रदेश में सभी सरकारी व निजी स्कूल व कोचिंग इंस्टीट्यूट को अब 30 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की संख्या घटा दी गई है। अब एक समय पर केवल पांच लोगों की ही एंट्री हो सकेगी।

ये भी पढ़ें- यूपीः एक दर्जन जिलों में लगा नाइट कर्फ्यू, आज से यहां भी लागू हुआ नियम, सीएम योगी ने दिए निर्देश

अस्पतालों में बेड की किल्लत को देखते हुए सभी अस्पतालों में तत्काल बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश जारी कर दिए हैं। रविवार से चार दिवसीय टीका उत्सव शुरू हो गया है, जिसके अंतर्गत प्रदेश में छह हजार विशेष टीकाकरण केंद्र स्थापित किए गए हैं। इन केंद्रों पर 45 वर्ष से ज्यादा आयु के रजिस्टर्ड एवं नॉन रजिस्टर्ड लोगों का टीकाकरण संभव हो सकेगा। शवदाह गृहों पर लंबी होती जा रही शवों की कतारों को देखते हुए नए शव दाह गृह स्थापित करने व विद्युत मशीनों को बढ़ाने का फैसला भी लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को टीम-11 संग समीक्षा बैठक कर यह आदेश जारी किए हैं।

स्कूल बंद करने के निर्देश-
अभी 11 अप्रैल तक सभी स्कूल-कॉलेजों को बंद करने के आदेश थे, लेकिन अब इसकी तिथि को आगे बढ़ा दिया गया है। यूपी में अब कक्षा 1 से 12वीं तक के सभी सभी सरकारी/गैर सरकारी स्कूल-कॉलेज व कोचिंग इंस्टीट्यूट को 30 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश हुए हैं। सीएम योगी ने स्पष्ट किया है कि इस दौरान पहले से तय परीक्षा होती रहेंगी। यदि जरूरत पड़े तो शिक्षक व अन्य स्टाफ कोस्कूलों में बुलाया जा सकता है। लेकिन बच्चों के स्कूल जाने पर मनाही है।

ये भी पढ़ें- कोरोनाः अंतिम संस्कार के लिए शवों की लगी कतार, लेना पड़ रहा टोकन, सरकारी आंकड़ों से ज्यादा आ रहे मृतक

श्रद्धालुओं के बदले नियम-
मंदिर व अन्य धार्मिक स्थलों को लेकर पहले ही गाइडलाइन जारी की जा चुकी थी। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजधानी लखनऊ के सभी धर्मस्थलों में पांच से ज्यादा लोगों के आने पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। पुलिस आयुक्त से उन्होंने कहा कि धर्मस्थलों में पांच से अधिक लोगों को एक साथ प्रवेश की अनुमति न दी जाए। इसके अतिरिक्त बाजारों में व्यापारियों से संवाद बनाकर उनका सहयोग लेते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाए। जो कंटेनमेंट जोन हैं, वहां लोगों के आवागमन को प्रतिबंधित किया जाए। मास्क न लगाने वालों पर सख्ती की जाए। उन्होंने लखनऊ में हर गांव और हर नगर निकाय के प्रत्येक वार्ड में निगरानी समितियों को सक्रिय करने के निर्देश दिए हैं। एक संक्रमित मरीज से 25 मीटर के दायरे और एक से अधिक संक्रमित मरीज मिलने पर 50 मीटर के दायरे को कंटेनमेन्ट जोन बनाए जाने के निर्देश दिए। कंटेनमेंट जोन में पीपीई किट का प्रयोग अनिवार्य रूप से किया जाए।

लखनऊ के अस्पतालों में बढ़ाएं बेड की संख्याः सीएम योगी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही कोविड-19 के बढ़ते खतरे के मद्देनजर राजधानी लखनऊ में कम से कम 2000 आईसीयू बेड की व्यवस्था करने के निर्देश दे चुके थे। अब एक बार फिर उन्होंने एक सप्ताह के भीतर 2000 और कोविड बेड के इंतजाम करने को निर्देश दिए हैं। लखनऊ ही कोरोना का सर्वाधिक प्रभावित जिला है। प्रतिदिन चार हजार से ज्यादा मामले केवल राजधानी में ही आ रहे हैं।

coronavirus
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned