Quick Read: ट्रेन में मिलेगा दाल, राजमा, चावल, पनीर सहित कई व्यंजन, छह महीने तक रहेगा फ्रेश

सफर के लिए घर से नाश्ता और खाना लेकर चलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। भूख लगने पर रास्ते में ही घर जैसा गरमागरम ब्रांडेड पैक्ड दाल-चावल, राजमा-चावल, कढ़ी-चावल, छोला-चावल, पनीर-चावल, वेज बिरयानी और नॉनवेज बिरयानी मिल जाएगी।

By: Karishma Lalwani

Published: 03 Jul 2021, 05:13 PM IST

ट्रेनों में अब ब्रांंडेड भोजन

गोरखपुर. सफर के लिए घर से नाश्ता और खाना लेकर चलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। भूख लगने पर रास्ते में ही घर जैसा गरमागरम ब्रांडेड पैक्ड दाल-चावल, राजमा-चावल, कढ़ी-चावल, छोला-चावल, पनीर-चावल, वेज बिरयानी और नॉनवेज बिरयानी मिल जाएगी। इसके लिए सिर्फ पेंट्रीकार और ट्रेन साइड वेंडिंग के वेंडरों को ऑर्डर करना होगा। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आईआरसीटीसी) ने ट्रेनों में ई कैटरिंग के बाद रेडी टू ईट सेवा शुरू की है। पैक्ड वेज और नॉनवेज का पैकेट घर भी ले जा सकते हैं। यह छह माह तक खाने योग्य बना रहेगा। यात्रियों को रेडी टू ईट देने के लिए आईआरसीटीसी ने प्रतिष्ठित तीन कंपनियों से अनुबंध किया है। आईआरसीटीसी इन कंपनियों से पर्याप्त मात्रा में पैक्ड खाद्य सामग्री लेकर रख ले रही हैं। पैक्ड सामग्री में भी दो तरह का भोजन मिल रहा है। कच्ची सामग्री वाली पैकेट में गर्म पानी मिलाकर तैयार किया जा रहा। जबकि, पके हुए पैकेट को गर्म पानी में डालकर तैयार किया जाएगा।

सास की हत्या कर गांव के युवक के साथ फरार बहू

गोरखपुर. खजनी थाने के मूलधारी की पत्नी भानमति की हत्या के आरोप में उसकी बहू सोनमती और उसी गांव गोविंद के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। भानमती बीते 22 जून को सब्जी बेचने बाघागाड़ा गई थी। रात में वापस नहीं आई तो स्वजन ने उसकी तलाश शुरू की। दूसरे दिन 23 जून की रात उसका शव महुआडाबर चौकी के ग्राम तालनवर से सटे नदी में उतराता दिखा। पोस्टमार्टम के बाद पता चला कि भानमती की मौत सिर में चोट लगने की वजह से हुई है। भानमती के पति मूलधारी ने बहू सोनमती व गांव के गोविंद पर हत्या का संदेह जताया। पुलिस ने उसके संदेह के आधार पर दोनों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया। मुकदमा दर्ज होने के बाद से दोनों आरोपित गांव से फरार हैं। इससे पुलिस का संदेह यकीन में बदल गया है। प्रभारी निरीक्षक खजनी अजय कुमार मौर्य ने कहा कि मृतका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट देर में आई है। मृतका के पति के संदेह जताने पर उसकी बहू व एक अन्य के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है।

बहन से विवाद के बाद राप्ती नदी में लगाई छलांग

गोरखपुर. गगहा थाना क्षेत्र के भाटगांधी निवासी हौसिला अपनी पत्नी और दो लड़कियों को साथ गीडा थाना क्षेत्र के कालेसर में किराया का मकान लेकर रहते हैं। सुबह उनकी पुत्री तारा का अपनी बहन से किसी बात को लेकर विवाद हो गया। इससे नाराज होकर तारा गाहासाड रेलवे पुल पर पहुंची और नदी में छलांग लगा दिया। तारा के नदी में छलांग लगाने के बाद उसे बचाने के लिए कुछ ग्रामीण भी नदी में कूद गए और युवती को नदी से बाहर निकाला। सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। ग्रामीण युवती को इलाज के लिए सीएचसी सहजनवा ले गये। कुछ देर में युवती के स्वजन भी अस्पताल पहुंच गए। वहां प्राथमिक उपचार के बाद युवती को उसके स्वजन को सौंप दिया गया। चिकित्सक सुनील यादव ने कहा कि युवती को ग्रामीण अस्पताल लाये थे। प्राथमिक उपचार के बाद वह अपनी मां के साथ चली गयी।

8 लाख के गहने लेकर फरार होने वाला भांजा गिरफ्तार

वाराणसी. रोहनिया में मामा के घर से आठ लाख के गहने चुराकर फरार होने वाले भांजे को रोहनिया पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की निशानदेही पर गहने भी बरामद हो गए। थाना क्षेत्र के अवलेशपुर में रहने वाले विकास मिश्रा का भांजा करीब 8 लाख के गहने चुराकर फरार हो गया था।विकास अपने परिवार और भांजे के साथ 10 जून को गांव गए थे। उसी दिन भांजे के घर मे रखे मामी के गहने लेकर फरार हो गया। विकास ने जब नवनीत के बारे में पता किया तो वह अपने घर भी नहीं गया और मोबाइल भी बंद कर फरार हो गया। मामा विकास ने अपने भांजे के खिलाफ रोहनिया थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। विकास के काफी प्रयास के बाद पुलिस ने आरोपी भांजे नवनीत तिवारी नरैचा, गंगापुर को गिरफ्तार किया है।

राष्ट्रपति से सम्मानित महिला की बेटी और नाती रायबरेली में मिले

कानपुर. राष्ट्रपति से सम्मानित बुजुर्ग कलावती की बेटी माला सिंह व पांच वर्षीय नाती ऋषि 21 जून को शिवराजपुर से पनकी आने के दौरान लापता हो गए थे। मामले में माला सिंह के पति शिवराजपुर के कुंवरपुर निवासी सुखेंद्र सिंह ने 21 जून को शिवराजपुर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। बाद में 29 जून इस मामले में एडीजी से शिकायत होने के बाद शिवराजपुर पुलिस ने महिला व मासूम बेटे के अपरहण का मुकदमा दर्ज कर खोजबीन शुरू की थी। दो दिन पहले माला सिंह मोबाइल ट्रेस कर पुलिस को उसका सुराग सफीपुर उन्नाव में लगे थे, लेकिन फिर दूसरे दिन उसका मोबाइल बंद हो गया। एसआई सुरेंद्र नारायण व उनकी टीम लापता माला व उसके बेटे की खोजबीन में जुटी हुई थी। शनिवार की सुबह पुलिस ने रायबरेली के हनुमानगंज से माला सिंह व मासूम ऋषि को बरामद कर लिया। थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने कहा की महिला और उसके बेटे को सकुशल बरामद कर लिया गया हैं।

निजी चिकित्सक ने घायल का सड़क पर किया इलाज

प्रयागराज. प्रयागराज-प्रतापगढ़ मार्ग पर सराय गोपाल क्षेत्र में निजी अस्पताल संचालक डॉ. सरताज फूलपुर से उतरांव की तरफ किसी काम से जा रहे थे। दोपहर करीब साढ़े तीन बजे उन्होंने देखा कि फूलपुर में ग्राम धुर्वा के पास सड़क किनारे भीड़ लगी है। वहां कोई घायल अवस्था में पड़ा था। यह देखते ही डा. सरताज भी रुक गए। घायल राजेश के सिर और माथे से काफी खून निकलकर सड़क पर बह चुका था, हड्डी टूट गई थी और राजेश बेसुध था। उन्होंने अपने पास उस समय मौजूद चिकित्सा सामग्री से जितना हो सका प्राथमिक उपचार दिया। यह देख अन्य लोगों में भी प्रेरणा जगी और सभी वहां उपचार में सहायक बनने लगे। थोड़ी देर में डॉ. ने एंबुलेंस भी बुलाई और राजेश को बेहतर इलाज के लिए सरकारी अस्पताल भेजा।

49 लाख पौधारोपण का इतिहास रचेगा बहराइच

बहराइच. रविवार को एक साथ 49 लाख पौधारोपण कर बहराइच जिला इतिहास रचेगा। वृहद पौधारोपण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा होंगे, जबकि बतौर पर्यवेक्षक प्रमुख सचिव खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन अनीता सिंह मौजूद रहेंगी। प्रभागीय वनाधिकारी मनीष सिंह ने कहा कि पौधारोपण की तैयारी पूरी कर ली गई है। उन्होंने कहा कि मुख्य अतिथि सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा कैसरगंज तहसील के मझारा तौकली गांव में ग्राम समाज की 15 हेक्टेयर भूमि पर एक साथ होने वाले 16 हजार 500 पौधों का रोपण कर कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। सदर विधायक अनुपमा जायसवाल तीन जुलाई को चित्तौरा में पौधारोपण करेंगी। शुक्रवार को कटहा ग्राम पंचायत में सदर एसडीएम सौरभ गंगवार ने नीम एवं कचनार का पौधा लगाया। चकिया रेंज में पीपल, विजयसाल, आम, इमली, हल्दू, तेंदू, सिरसा आदि पौधा रोपा गया।

ये भी पढ़ें: Quick Read : लगातार बारिश से उर्द और मूंग की फसल बर्बाद, किसान बेहाल

ये भी पढ़ें: Quick Read: फर्जी शिक्षकों की तादाद बढ़ी, शिकायत के आठ साल बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned