scriptCorona fear in fpi pulled out 1.2 lac cr rs from stock market in March | विदेशी निवेशकों में कोरोना का खौफ, मार्च में शेयर बाजार से निकाले 1.2 लाख करोड़ रुपए | Patrika News

विदेशी निवेशकों में कोरोना का खौफ, मार्च में शेयर बाजार से निकाले 1.2 लाख करोड़ रुपए

  • एशिया में दक्षिण कोरिया के बाद भारत में सबसे ज्यादा एफपीआई ने बिकवाली
  • 2008 की मंदी का तोड़ा रिकॉर्ड, विदेशी निवेशकों ने मार्च 2020 में की ज्यादा निकासी

Updated: April 02, 2020 08:42:32 am

नई दिल्ली। मौजूदा समय में दुनियाभर के इक्विटी बाजारों में कोरोना वायरस का खौफ पूरी तरह से छाया हुआ है। दुनियाभर के निवेशक अपना रुपया इक्विटी मार्केट से निकाल रहे हैं। कुछ ऐसा ही भारतीय शेयर बाजार में देखने को मिल रहा है। खासकर विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की ओर से ज्यादा बिकवाली देखने को मिली हैै। जानकारों की मानें ऐसी बिकवाली 12 सालों में किसी महीने में देखने को नहीं मिली। वहीं जितना रुपया विदेशी निवेशकों की ओर मार्च के महीने में निकाला है, उतना तो 2008 की मंदी के दौरान बाजार से निवेशकों ने नहीं निकाला। मार्च में विदेशी निवेशकों की ओर से एशियन रीजन में दक्षिण कोरिया के बाद भारत से सबसे ज्यादा रुपया निकाला है।

Foreign portfolio investors
Foreign portfolio investment

यह भी पढ़ेंः- शेयर बाजार में गहराया कोरोना संकट, सेंसेक्स में 1200 अंकों की गिरावट, निफ्टी 8300 अंकों से नीचे बंद

1.20 लाख करोड़ रुपए निकाले
मार्च 2020 में विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार से रिकॉर्ड 15.9 अरब डॉलर यानी 1.2 लाख करोड़ रुपए निकाल लिए हैं। जानकारों की मानें तो जब से भारत में कोरोना वायरस का खौफ फैला तब से विदेशी निवेशकों की ओर से बिकवाली देखने को मिल रही है। आंकड़ों की बात करें तो विदेशी निवेशकों का साल 2020 की शुरुआत में भारतीय शेयर बाजार में एसेट अंडर मैनेजमेंट 431 अरब डॉलर यानी 33 लाख करोड़ रुपए था, जो जो 15 मार्च को कम होकर 341 अरब डॉलर यानी 25.52 लाख करोड़ रुपए हो गया। इसमें 20 फीसदी यानी 90 अरब डॉलर की बड़ी गिरावट देखने को मिली। आपको बता दें कि भारतीय शेयर बाजार में विदेशी पोर्टफोलियो इंवेस्टर्स के पास कुल मार्केटकैप का पांचवा हिस्सा है।

यह भी पढ़ेंः- सरकारी बैंकों ने ईएमआई पर दी राहत, प्राइवेट बैंकों से करनी होगी दरख्वास्त

किन सेक्टर्स में देखने को सबसे ज्यादा गिरावट
वैसे विदेशी निवेशकों की ओर से शेयर बाजार के कई सेक्टर्स में निवेश किया हुआ था। जिसकी वजह से कई सेक्टर्स से विदेशी निवेशकों ने अपना रुपया निकाला है। जानकारी के अनुसार विदेशी निवेशकों ने सबसे ज्यादा बिकवाली फाइनेंशियल सर्विस सेक्टर, बैंकिंग और ऑयल सेक्टर में की है। विदेशी निवेशकों की कुल निकासी में से 90 फीसदी हिस्सा इन्हीं तीनों सेक्टर्स का है। जानकारों के अनुसार बीते कुछ हफ्तों के कारोबारी सत्रों में इन सेक्टर्स में बड़ी बिकवाली देखने को मिलीी है।

यह भी पढ़ेंः- सरकार ने चलाई आम जनता की बचत पर कैंची, पीपीएफ से लेकर केवीपी तक की ब्याज दरों में की 1.40 फीसदी की कटौती

मात्र 22 सेशंस में निकाले 71 हजार करोड़ रुपए
अगर मार्च के बीते 22 सत्रों के कारोबार की बात करें तो विदेशी निवेयाकों ने 9.5 अरब अमरीकी डॉलर यानी 71,000 करोड़ रुपए निकाल लिए हैं। नोमुरा की रिपोर्ट के अनुसार बीते 22 सेशंस के कारोबार में विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार के कुल मार्केटकैप का एवरेज 0.7 फीसदी की बिकवाली की है। जो कि 2008 में आई आर्थिक मंदी के दौरान कुल बिक्री से भी ज्यादा है। आपको बता दें कि साल 2008 में विदेशी निवेशकों की ओर से 9.33 अरब डॉलर यानी 69,800 करोड़ रुपए की निकासी की थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चदिल्ली में डबल मर्डर से सनसनी! एक की चाकू से गोदकर हत्या, दूसरे को गोली मारीEncounter In Ghaziabad: बदमाशों पर कहर बनकर टूटी पुलिस, एक रात में दो इनामी अभियुक्तों को किया ढेर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.