कोरोना ने बढ़ाई निवेशकों की चिंता, शेयर बाजार में फिर से देखने को मिल सकती है गिरावट

कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर निवेशकों में चिंता अगले सप्ताह भी बनी रहेगी और अमरीकी बांड बाजार के रुखों का असर भारतीय शेयर बाजार पर बना रहेगा।

By: Saurabh Sharma

Updated: 21 Mar 2021, 10:49 AM IST

नई दिल्ली। देश के शेयर बाजार की चाल इस सप्ताह वैश्विक संकेतों से ही तय होगी। हालांकि देश में कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर निवेशकों में चिंता बनी रहेगी। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम और डॉलर के मुकाबले देसी करेंसी रुपए की चाल पर भी बाजार की नजर टिकी रहेगी। वहीं, अमेरिकी बांड बाजार के रुखों का असर भारतीय शेयर बाजार पर बना रहेगा। कोरोना के कहर की वापसी से बने निराशा के बादल अभी छटे नहीं हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के नये मामलों की संख्या शनिवार को पिछले साल 25 नवंबर के बाद के सबसे उंचे स्तर पर रहे, इसलिए कोरोना का साया इस सप्ताह भी शेयर बाजार पर बना रहेगा। लेकिन इसके साथ-साथ वैक्सीनेशन कार्यक्रम की प्रगति पर भी निवेशकों की निगाहें बनी हुई हैं।

बना रह सकता है बाजार में दबाव
जानकार बताते हैं कि घरेलू शेयर बाजार की दिशा तय करने में इस समय जो सबसे अहम कारक है वह अमरीकी बांड बाजार है क्योंकि बांड से ज्यादा रिटर्न मिलने की उम्मीदों में विदेशी निवेशक भारतीय शेयर बाजार से अपने पैसे निकालते हैं जिससे बिकवाली का दबाव बना रहता है। पिछले सप्ताह के शुरूआती सत्रों में देश के शेयर बाजार में गिरावट की यही एक बड़ी वजह थी। इसलिए इस सप्ताह भी घरेलू शेयर बाजार की चाल अमेरिकी बांड बाजार के रुखों पर निर्भर करेगी।

डॉलर इंडेक्स पर रहेगी नजर
वहीं, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमरीकी डॉलर की ताकत का ***** डॉलर इंडेक्स में बीते कुछ दिनों से मजबूती देखने को मिली है, इसलिए डॉलर इंडेक्स के रुखों पर भी बाजार की निगाहें टिकी रहेंगी। साथ ही, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव में तेजी या सुस्ती का भी असर घरेलू शेयर बाजार पर देखने को मिलेगा।

जारी होंगे आंकड़ें
इस सप्ताह के दौरान चीन में लोन प्राइम रेट की घोषणा मंगलवार को होगी और गुरुवार को अमेरिका में टिकाउ वस्तुओं के फरवरी महीने के ऑर्डर के आंकड़े जारी होंगे। इसके अलावा, कुछ अन्य प्रमुख आर्थिक आंकड़े जो सप्ताह के दौरान जारी होंगे उनपर भी निवेशकों की नजर होगी। जानकार बताते हैं कि इस सप्ताह मुख्य रूप से दो प्रमुख कारकों से देश के शेयर बाजार की चाल तय होगी जिनमें एक अमेरिकी बांड की यील्ड और कोरोना की कहर की वापसी शामिल है।

coronavirus
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned