ट्रंप की बीमारी का असर दुनिया के शेयर बाजारों पर पर ढाएगा कहर!

  • शुक्रवार को ट्रंप की बीमारी के बाद से ग्लोबल शेयर बाजारों में देखने को मिली थी गिरावट
  • शनिवार देर रात ट्रंप की तबियत को लेकर डॉक्टर्स चिंतित 48 घंटे बताए बेहद अहम

By: Saurabh Sharma

Updated: 04 Oct 2020, 01:46 PM IST

नई दिल्ली। अमरीकी राष्ट्रपति की तबियत को लेकर कई तरह की बातें सामने आ रही हैं मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वैसे तो ट्रंप दंपत्ति ठीक हैं, लेकिन अगल 48 घंटे बेहद अहम है। खास बात तो ये है कि दुनियाभर के लिए भी अगले 48 घंटे बेहद अहम हैं। जब दुनियाभर के शेयर बाजार खुलेंगे तो बांबे से लेकर हांगकांग तक और शंघाई से लेकर नई दिल्ली तक सभी हिले हुए ही दिखाई देंगे। मतलब यह है कि भारत समेत एशिया और उसके बाद अमरीका और यूरोप के शेयर बाजारों के प्रमुख सूचकांकों में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। बीते शुक्रवार को जब ट्रंप को कोरोना पॉजिटिव होने की खबर मिली थी तो सुबह ग्लोबल वायदा बाजारों के साथ-साथ शेयर बाजारों में बड़ी गिरावट के साथ बंद हुए थे। वैसे भारत में 2 अक्टूबर को गांधी जयंति का अवकाश होने के कारण बाजार बंद थे। ऐसे में इसका असर सोमवार को दिखाई दे सकता है।

यह भी पढ़ेंः- जीएसटी कलेक्शन से लेकर निर्यात तक सभी में सुधार, इकोनॉमी में आएगी बहार!

भारत में गिर सकता है शेयर बाजार
जानकारों की मानें गुरुवार के बाद से शेयर बाजार में लंबा वीकेंड देखने को मिला है। जिसकी वजह से ग्लोबल बाजार में गिरावट का असर भारतीय शेयर बाजार में देखने को नहीं मिला, लेकिन जब सोमवार को जब बाजार खुलेंगे तो सेंटीमेंट नेगेटिव रहने के आसार हैं। जानकारों की मानें तो बाजार में डेढ़ से दो फीसदी तक की गिरावट देखने को मिल सकती है। जोकि बीते पांच कारोबारी सत्रों की तेजी है। एक्सपर्ट की राय के अनुसार बाजार में ट्रंप के कोरोना होने का दबाव रहेगा। साथ देश में बढ़ते कोरोना वायरस की मामलों का दबाव रहने के आसार हैं। वैसे सितंबर महीने के आंकड़े काफी अच्छे देखने को मिल रहे हैं। ऐसे में बाजार में उतनी गिरावट देखने को ना मिले जितनी उम्मीद लगाई जा रही है।

यह भी पढ़ेंः- अगर आपने भी लगाया होता इन कंपनियों में पैसा तो हो जाता 200 से 400 फीसदी का मुनाफा

अमरीकी बाजारों में टूटेगा कहर
प्रेसिडेंशियल इलेक्शन से पहले अमरीका के राष्ट्रपति और रिपब्लिक पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के कोरोना हो जाने की खबर बेहद गंभीर और बड़ी घटना है। जिसका असर शुक्रवार की तरह सोमवार को भी देखने को मिल सकता है। शुक्रवार को वैसे न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज हरे निशान पर आकर सपाट स्तर पर बंद जरूर हुआ था, लेकिन ट्रंप की बीमारी का दबाव बना रहेगा। नैस्डैक में 2.22 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली थी। जबकि एसएंडपी एक फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ था। डाउ जोंस 134 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुए थे। ऐसे में इन इंडेक्स में फिर से गिरावट संभव है।

यह भी पढ़ेंः- आपको भी है रुपयों की जरुरत तो गोल्ड लोन है सबसे बेहतर विकल्प, जानिए पर्सनल लोन से है कितना सस्ता

यूरोपीय बाजार हो सकते हैं बेहाल
यूरोपीय बाजारों के दो प्रमुख सूचकांक यूरो स्टॉक्स और डीएएक्स दोनों गिरावट के साथ क्रमश: 0.10 फीसदी और 0.33 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुए थे। वहीं एफटीएसई में रिकवरी देखने को मिली थी। फाइनेंशियल टाइम्स एक्सचेंज 0.39 फीसदी की तेजी के साथ बंद हुआ था। सीएससी भी हरे निशान पर रहते 0.02 फीसदी की तेजी के साथ सपाट स्तर पर बंद हुआ था। जानकारों का कहना है कि आने वाले दिनों में ट्रंप की बीमारी को लेकर प्रिडक्शन किया जा रहा है उससे यूरोपीय बाजारों में एक से डेढ़ फीसदी की गिरावट देखने को मिल सकती है।

एशियाई बाजारों का कैसा रह सकता रुख
वहीं दूसरी ओर एशियाई बाजारों का रुख भी काफी अहम है। निक्कई, टोक्यो, हेंगसेंग और शंघाई जैसे बाजारों में भी गिरावट का रुख देखने को मिल सकता है। चीन की इकोनॉमिक आंकड़े अच्छे आए हैं। ऐसे में दबाव थोड़ा हल्का रह सकता है। वैसे शुक्रवार को निक्कई 0.67 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ था। वहीं टोक्यो के बाजार में एक फीसदी की गिरावट देखने को मिली थी। हेंगसेंग और शंघाई स्टॉक एक्सचेंज 30 से खुले नहीं है। ऐसे में इन दोनों बाजारों में भी दबाव देखने को मिल सकता है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned