ईशा और आकाश अंबानी फॉर्च्यून की '40 अंडर 40' की लिस्ट में शामिल, इन दो और युवाओं ने भी बनाई जगह

  • बायजूस के फाउंडर रविंद्रन और शाओमी इंडिया के एमडी मनु जैन भी लिस्ट जगह बनाने में हुए सफल
  • फॉर्च्यून की इस लिस्ट में प्रत्येक कैटेगरी में दुनिया की 40 हस्तियों को किया गया है शामिल

By: Saurabh Sharma

Updated: 03 Sep 2020, 10:02 AM IST

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी के बाद अब उनके बच्चों का नाम भी इंटरनेशनल मैग्जीन की लिस्ट में आने लगा है। ईशा अंबानी का नाम तो पहले भी आया है, लेकिन आकाश अंबानी का नाम पहली बार किसी लिस्ट में देखा गया है। फॉर्च्यून की 40 अंडर 40 की लिस्ट में ईशा और आकाश अंबानी ( Fortune 40 Under 40 List ) दोनों नाम दर्ज किया गया है। इस लिस्ट में कुल चार भारतीयों के नाम शामिल है। तीसरा नाम बायजूस के फाउंडर रविंद्रन और शाओमी इंडिया के मैनेजिंग डायरेडक्टर का नाम भी शामिल है। आपको बता इें कि फॉर्च्यून ने फाइनेंस, टेक्नॉलोजी, हेल्थकेयर, पॉलिटिक्स और मीडिया एंव एंटरटेनमेंट की कैटेगरी में 40 साल के अंदर के दुनिया के 40 टॉप बिजनेसमैन की लिस्ट जारी की है। ईशा और आकाश अंबानी का नाम टेक कैटेगरी में रखा गया है।

यह भी पढ़ेंः- लोन रीस्ट्रकचरिंग को लेकर बैंकों और एनबीएफसी के साथ बैठक करेंगी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

जियोमार्ट लांच करनेमें अहम भूमिका
फॉर्च्यून के अनुसार ईशा और आकाश अंबानी ने जियो को आगे ले जाने में अहम भूमिका निभाई है। मई में जियोमार्ट को लांच किया, जिससे दुनिया की सबसे बड़ी ईकॉमर्स कंपनी और भारती की सबसे बड़ी ईकॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के सामने बड़ी चुनौती पेश की है। मैग्जीन के अनुसार जियो को आगे बढ़ाने के लिए दोनों ने मिलकर दुनिया की कई टेक कंपनियों के साथ डील डेढ़ लाख करोड़ रुपए की डील को फाइनल कराने में मदद की और रिलायंस को डेट फ्री बनाया।

यह भी पढ़ेंः- कोरोना वायरस के दौर में पहली बार सस्ता हुआ डीजल, जानिए कितने हो गए हैं दाम

बायूजस फाउंडर के बारे में क्या कहा
वहीं फॉर्च्यून मैगजीन की ओर से बायजूस के फाउंडर रवींद्रन की भी काफी तारीफ की गई। फॉच्र्यून ने उनके बारे में कहा कि उन्होंने दुनिया को बतााया कि सफल ऑनलाइन एजुकेशन कंपनी बनाना मुश्किल नहीं है। फॉच्र्यून की ओर से कहा गया है कि अब उन्हें अमरीका और ब्रिटेन जैसे देशों में अपने कारोबार का विस्तार करना चाहिए। वहीं दूसरी ओर मनु जैन ने शाओमी से जुडऩे से पहले ई-कॉमर्स कंपनी जबोंग की स्थापना की थी, जिसे फ्लिपकार्ट को बेच दिया था।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned