मुख्तार अंसारी का बांदा जेल में आठ किलो वजन घटा, कोर्ट से बोले, नहीं मिली मच्छरदानी, तकिया और कूलर

मुख्तार अंसारी ने मऊ कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिये पेशी हुई, मुख्तार अंसारी ने कोर्ट से कहा कि उन्हें मानक के हिसाब से जेल में सुविधाएं नहीं मिल रही हैं।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मऊ. यूपी की बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी का वजन आधा का वजन आठ किलो घट गया है। बाहुबली की शिकायत है कि उन्हें जेल में मानक के मुताबिक सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं। उनके वकील का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के के मानक के मुताबिक सुविधाएं न दिये जाने के चलते मुख्तार अंसारी की तबीयत खराब हो गया है। 40 दिनों में मुख्तार का वजन करीब 8 किलो घट गया है। मुख्तार अंसारी को लाइसेंसी असलहा के फर्जीवाड़ा मामले वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मऊ कोर्ट में पेशी हुई।

 

पेशी के बाद मुख्तार अंसारी के वकील दरोगा सिंह ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि उनके मुवक्किल एक विधायक हैं, उसक बावजूद भी जेल में उन्हें सुप्रीम कोर्ट के मानक के मुताबिक सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं। इसका असर मुख्तार के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि लाइसेंसी असलहा मामले में अगली तारीख 21 मई मुकर्रर की गई है।

 

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कोर्ट में पेश हुए मुख्तार अंसारी ने कोर्ट को बताया कि उन्हें जेल में जो सुविधाएं मिलनी चाहियें वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी नहीं मिल रही हैं। मेडिकल बोर्ड के डाॅक्टर ने भी जो सलाह दी थी उसका भी पालन जेल अधीक्षक द्वारा नहीं किया जा रहा है।

 

बताते चलें कि फर्जीवाड़ा कर असलहा लाइसेंस में मुख्तार अंसारी का लेटर पैड इस्तेमाल होने के मामले में मऊ के दक्षिणटोला थाने में धोखाधड़ी, षड्यंत्र और आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया, जिसमें मुख्तार अंसारी को भी आरोपित किया गया।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned