सीएम योगी वेस्ट यूपी के इन भाजपा धुरंधरों को दीपावली पर देने जा रहे धमाकेदार तोहफा, इनकी होने जा रही बल्ले-बल्ले!

सीएम योगी वेस्ट यूपी के इन भाजपा धुरंधरों को दीपावली पर देने जा रहे धमाकेदार तोहफा, इनकी होने जा रही बल्ले-बल्ले!

sanjay sharma | Publish: Oct, 14 2018 12:15:54 PM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 12:15:55 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

दशहरे के बाद इस तोहफे के लिए भाजपा हार्इकमान लगाएगा मुहर

 

केपी त्रिपाठी, मेरठ। प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार की सुगबुगाहट शुरू हुई तो भाजपाइयों के दिलों की धड़कनें तेज हो चली। खासकर वेस्ट यूपी के कद्दावर नेताओं की, वहीं पश्चिम के कुछ पुराने दिग्गज ऐसे हैं जिन्हें अब संगठन चाहे कोई भी जिम्मेदारी उठाए उसके लिए वे तैयार बैठे हैं। भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी भी उन दिग्गजों में से एक हैं जो अपनी मां भाजपा के लिए किसी भी जिम्मेदारी को लेने के लिए तैयार बैठे हैं। बताते चलें कि प्रदेश मंत्रिमंडल में पश्चिम उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व सबसे कम है। सीटों के अनुपात के लिहाज से इसी क्षेत्र से भाजपा की जीत का मार्ग प्रदेश भर में प्रशस्त हुआ था। ऐसे में इसी क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को मंत्रिमंडल में कम भागीदारी से यहां के लोगों में भी आक्रोश है। पश्चिम से पिछड़ी जाति के किसी भी जनप्रतिनिधि को मंत्रिमंडल में जगह न दिए जाने से वह भी नाराज ही चल रही है। यह पिछड़ी जाति प्रमुख रूप से गुर्जर समाज है। मंत्रिमंडल विस्तार में गुर्जरों की दावेदारी पार्टी के बीच चर्चा में है। वहीं अनुसूचित वर्ग से भी पश्चिम से एक नया चेहरा शामिल हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः योगी की पुलिस का काम किया ग्रामीणों ने, कुख्यात उधम सिंह के तीन शूटरों ने मांगी रंगदारी तो किया यह हाल

बैठक के बाद से हो रहा विस्तार का इंतजार

मेरठ में हुई प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के बाद से ही मंत्रिमंडल के विस्तार का इंतजार किया जा रहा है। कार्यसमिति की बैठक में भी पिछड़ों के साथ मतभेद की बात उभर कर सामने आई थी। जिस पर इसकी जिम्मेदारी उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य को सौंपी गई थी। जिसमें ओबीसी वर्ग को रिझाने के लिए उन्होंने पिछड़ी जातियों के सम्मेलन किए थे। सम्मेलन में गुर्जरों को मंत्रिमंडल में जगह न मिलने पर मीरापुर विधायक अवतार सिंह भड़ाना ने कड़ी नराजगी जताई थी। बताते चलें कि पश्चिमी उप्र में मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर, बिजनौर, बुलंदशहर, मेरठ, गाजियाबाद जिलों में गुर्जर वोटर निर्णायक स्थिति में हैं, लेकिन उस लिहाज से उनको भागीदारी नहीं मिल सकी। गुर्जर चेहरों में मंत्रिमंडल की दौड़ में एमएलसी अशोक कटारिया, मीरापुर से विधायक अवतार सिंह भड़ाना, लोनी से पहली बार विधायक बने नंदकिशोर गुर्जर, दादरी से तेजपाल नागर एवं मेरठ दक्षिण से डा. सोमेंद्र तोमर शामिल हैं। पार्टी में अपने अनुभवों व संगठन में मिले विभिन्न पदों पर दायित्व का निर्वाहन कर चुके एमएलसी अशोक कटारिया का कद अन्य सभी पर भारी पड़ रहा है। वे संघ की भी पसंद बताए जा रहे हैं। अवतार सिंह भड़ाना सांसद और दिल्ली के गलियारों में बड़ा रसूख रखने वाले नेता हैं।

यह भी पढ़ेंः कांग्रेसियों ने भाजपा के अंदाज में ही किया यह अनोखा प्रदर्शन, कहा- मोदी सरकार अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार

डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी शामिल होंगे

भाजपाइयों के अनुसार इस समय पश्चिम उप्र से डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी का मंत्रिमंडल में शामिल होना तय माना जा रहा है। देश और प्रदेश में सरकार बनने के बाद से उनके पास कोई बड़ा पद नहीं है। माना जा रहा है कि इस बार मंत्रिमंडल विस्तार में उनको कोई बड़ा पोर्टफोलियो दिया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इसके संकेत भी पार्टी ने दे दिए हैं। डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी के शामिल होने के बाद ब्राह्मण वर्ग का नेतृत्व मंत्रिमंडल में पश्चिम उत्तर प्रदेश से करने वाले एक मात्र भाजपाई होंगे।

दशहरे के बाद होगा विस्तार

प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार दशहरे के बाद होगा। इसके लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की हरी झंडी का इंतजार है। अमित शाह 20 अक्टूबर के बाद किसी भी दिन लखनऊ आकर मंत्रिमंडल विस्तार की सूची पर मोहर लगाएंगे। इसके बाद ही सूची सर्वाजनिक की जाएगी।

Ad Block is Banned