scriptMeerut News: मेरठ में खूब हुई दिवाली पर आतिशबाजी, सुप्रीम कोर्ट के आदेश हवा में; देखें वीडियो | Lots of fireworks on Diwali in Meerut | Patrika News

Meerut News: मेरठ में खूब हुई दिवाली पर आतिशबाजी, सुप्रीम कोर्ट के आदेश हवा में; देखें वीडियो

locationमेरठPublished: Nov 13, 2023 01:55:59 pm

Submitted by:

Kamta Tripathi

Meerut news: मेरठ में दिवाली पर आतिशबाजी आधी रात के बाद भी जारी रही। दिवाली पर आतिशबाजी प्रतिबंध के सुप्रीम कोर्ट के आदेश लोगों ने पटाखों छुटाकर उड़ा दिए। देर रात तक मेरठ में दिवाली पर आतिशबाजी होती रही।

मेरठ में दिवाली आतिशबाजी
दिवाली की रात मेरठ के आसमान में आतिशबाजी का नजारा।
Meerut Diwali fireworks, Meerut News: मेरठ में दिवाली पर खूब आतिशबाजी हुई। मेरठ में दिवाली की शाम से शुरू हुआ आतिशबाजी का दौर रात में 9 बजे से 12 बजे तक पूरे चरम पर रहा। हर गली, मोहल्लों और कालोनियों में जमकर आतिशबाजी हुई। रात में एक बजे के आसपास मेरठ का एक्यूआई एक बार फिर से 300 के पार पहुंच गया। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में दिवाली पर्व पर आतिशबाजी करने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है।
बेरियम युक्त पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का आदेश हर राज्य पर लागू
सुप्रीम कोर्ट ने सात नवंबर को कहा था बेरियम युक्त पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का आदेश हर राज्य पर लागू होगा। यह केवल दिल्ली-एनसीआर तक सीमित नहीं रहेगा। लेकिन इसके बाद भी मेरठ ही नहीं दिल्ली एनसीआर के अन्य जिलों में भी दिवाली पर खूब आतिशबाजी हुई।
एक्यूआई 900 पर पहुंच गया
दिवाली पर आतिशबाजी के बाद गाजियाबाद में आनंदविहार का एक्यूआई 900 पर पहुंच गया है। दिवाली पर आतिशबाजी के बाद अब एनसीआर के जिले गंभीर वायु प्रदूषण से जूझ रहे हैं। मेरठ सहित गाजियाबाद और नोएडा में दिवाली पर पटाखों पर लगे प्रतिबंध का खूब उल्लंघन हुआ और जमकर आतिशबाजी हुईं। इसके बाद आज सुबह दिल्ली एनसीआर में धुंध की चादर दिखाई देने लगी है। इसी के साथ केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के मुताबिक वायु गुणवत्ता ‘खराब’ श्रेणी में बनी हुई हैं
आतिशबाजी तेज हुई तो प्रदूषण का स्तर भी बढ़ने लगा
दिवाली पर रात 9 बजे के बाद आतिशबाजी तेज हुई तो प्रदूषण का स्तर भी बढ़ने लगा। मेरठ के सभी आवासीय क्षेत्रों में पटाखे फोड़े जाने की सूचना मिली है। कुछ लोगों ने थाने में फोन करके पटाखा फोड़े जाने की शिकायतें की लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का सख्त रुख आतिशबाजी के धुएं में उड़ गया। चेतावनियों और पूर्ण प्रतिबंध के बावजूद… अधिकारी एक बार फिर दिवाली पर आतिशबाजी रोकने में विफल रहे हैं। सवाल उठता है कि सुप्रीम कोर्ट अब क्या रुख अपनाएगा? लोग दिवाली के नाम पर अपने बच्चों को घुट-घुटकर जीने को मजबूर कर रहे हैं।
शाम 4 बजे से शुरू हुई हल्की आतिशबाजी रात 10 बजे पूरे पीक पर
शाम 4 बजे से मेरठ में आतिशबाजी की आवाज सुनाई देने लगी थी। इसके बाद तक रात 10 बजे दिवाली पर आतिशबाजी अपने पूरे शबाब पर पहुंच गई थी। मेरठ शास्त्री नगर, जैन नगर, जागृति विहार, बेगमपुल, लालकुर्ती, रजबन, सदर बाजार, पल्लवपुरम, कंकरखेडा और गंगानगर जैसे पॉश इलाकों में जमकर आतिशबाजी हुई। गंगानगर इलाके में शाम छह बजे से पटाखों की आवाजें सुनाई देने लगीं थी।

यह भी पढ़ें

Meerut Weather update: आज गोवर्धन पर्व पर कहां निकलेगी धूप और चलेंगी ठंडी तेज हवाएं, जानिए आईएमडी अपडेट

प्रतिबंध के बाद भी खूब बिके चोरी छिपे पटाखे
मेरठ में प्रतिबंध के बावजूद चोरी छिपे पटाखे बेचें गए। पटाखा व्यापारियों ने अपने घरों में नहीं बल्कि दूसरी जगह पर पटाखों के गोदाम बनाए हुए थे। जहां से चोरी छिपे पटाखा बेचे जा रहे थे। लोगों का कहना है कि थाना पुलिस की मिलीभगत से खूब पटाखा बेचे गए। मेरठ के हर कालोनी और बाजार में पटाखों की दुकाने गुपचुप तरीके से लगाई गई। ऐसा ही हाल गाजियाबाद और दूसरे शहरों का रहा।

ट्रेंडिंग वीडियो