शहीद मेजर केतन शर्मा की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब, फिजा में गूंजे ये नारे

Iftekhar Ahmed | Publish: Jun, 18 2019 06:56:52 PM (IST) | Updated: Jun, 18 2019 08:18:40 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

  • फिजाओं में गूंजने लगे केतन शर्मा अमर रहे के नारे
  • फूलों की सेज पर चलकर चिता तक पहुंचा शहीद का शव

मेरठ. आतंकियों से लड़ते हुए देश के ऊपर अपने प्राण की आहुति देने वाले शहीद मेजर केतन शर्मा को मंगलवार की शाम 6 बजे पंचतत्व में विलीन कर दिया गया। उन्हें उनके बुजुर्ग पिता ने मुखाग्नि दी। उनके पार्थिव शरीर को मंगलवार को दोपहर करीब साढ़े 3 बजे दिल्ली से मेरठ लाया गया। यहां शहीद के पार्थिव शरीर को कुछ देर तक लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। इसके बाद उनके शव को अंतिम यात्रा पर ले जाया गया। मेरठ के सुरजकुंड में उनका हिन्दू विधि विधान से शाम 6 बजे अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान यूपी सरकार में गन्ना मंत्री सुरेश राणा के अलावा मेरठ जिले से भाजपा के सभी विधायकों के अलावा जिले के आला अधिकारी भी अंत्येष्टि क्रिया में मौजूद रहे।

Meerut

शहीद की अंतिम यात्रा में सड़क पर बिछ गई फूलों की सेज

शहीद मेजर केतन शर्मा की अंतिम यात्रा में एक अलग ही नजारा देखने को मिला। उनकी अंतिम यात्रा के दौरान फिजा में मेजर केतन शर्मा अमर रहे का नारा गूंजता रहा। शव यात्रा में लोगों का जनसैलाब देखने को मिला। इस दौरान सभी की आंखों ने पाकिस्तान और आतंवादियों के खिलाफ नफरत और गुस्सा साफ दिखाई दे रहा था। शहीद की अंतिम यात्रा ऐसी शाही तरीके से निकली कि लोग देखकर दंग रह गए। शव यात्रा के आगे-आगे युवा फूलों की सेज बिछा रहे थे। उसके पीछे-पीछे फूलों से सजा सेना का शल लेकर चल रहा था।


दिल्ली के सेना प्रमुख ने दी सलामी
इससे पहले जम्मू-कश्मीर से उनका पार्थिव शरीर दिल्‍ली पहुंचने पर यहां सेना के बड़े अधिकारियों ने सैनिक सम्‍मान के साथ अंतिम विदाई दी। वहां से केतन शर्मा के पार्थिव शरीर को हेलीकॉप्‍टर से मेरठ लाया गया। इस मौके पर राज्‍य सरकार की तरफ से गन्‍ना मंत्री सुरेश राणा शहीद मेजर के घर पर उनके परिजनों को सांत्‍वना देने पहुंचे।

सरक्षा के मुख्ता इंतजाम
मंगलवार की दोपहर को मेरठ के आरवीसी सेंटर में हेलीकॉप्टर उतरा। वहां से शव को मेजर के घर पर लाया गया। शहीद मेजर के शव को लेने के लिए परिवार के लोग पहले ही आरवीसी सेंटर पहुंच चुके थे। दिल्ली से जैसे ही केतन शर्मा का पार्थिव शरीर हेलीकॉप्टर में रखा गया, मेरठ में सैनिक अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी गई थी। इसके बाद अधिकारियों ने उनके परिजनों को आरवीसी सेंटर स्थित हेलीपैड पर ले जाने की व्यवस्था की। सुरक्षा व्‍यवस्‍था को देखते हुए आरवीसी और उसके आसपास के क्षेत्र को प्रतिबंधित कर दिया गया था। इस बीच शहीद के परिजनों के अलावा अन्य किसी को भी आरवीसी की सीमा में नहीं घुसने दिया गया।


गौरतलब है कि कि सोमवार को जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इसमें मेरठ के रहने वाले 29 साल के मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए थे। केतन शर्मा के शहादत की खबर सुनने के बाद उनकी माता की हालत बिगड़ गई थी। इसके बाद उनका घर पर ही इलाज कराया गया था। शहीद मेजर केतन शर्मा की शादी दिल्ली निवासी ईरा से हुई थी। इन दोनों की एक पुत्री है, जो करीब तीन साल की है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned