मुन्ना बजरंगी हत्याकांड : सात समंदर पार तक फैला है सुनील राठी का गिरोह, 17 साल में इतनी जेलों में रह चुका बंद!

सुनील राठी के गिरोह के तार देश ही नहीं बल्कि सात समंदर पार तक जुड़े हुए हैं।

बागपत। माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या का मामला इन दिनों सुर्खियों में बना हुआ है। वहीं इस हत्याकांड का आरोप कुख्यात सुनील राठी पर लग रहा है। वहीं पुलिस का कहना है कि उसने यह बात कबूल भी की है। हालांकि अभी जांच चल रही है और पुलिस हर तरह से मामले की पड़ताल कर रही है। वहीं सुनील राठी के गिरोह के तार देश ही नहीं बल्कि सात समंदर पार तक जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें : मुन्ना बजरंगी हत्याकांड मामले में पुलिस को मिले अहम फोटो, पूर्वांचल से पश्चिप यूपी तक जुड़ रहे तार

गुर्गों के साथ कचहरी पहुंचा था विदेशी

यह तब पता चला जब राठी के गुर्गों के साथ साउथ अफ्रिका का एक युवक कचहरी में पहुंचा, जहां पुलिस ने उसे पकड़ लिया। इस दौरान गुर्गों और पुलिस में कहासुनी भी हुई थी। बताया जा रहा है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद से ही राठी के गुर्गे अंडरग्राउंड को गए हैं। जबकि पुलिस उनकी तलाश में दबिश भी दे रही है, लेकिन किसी का कोई पता नहीं लग सका है।

यह भी पढ़ें : STF की जांच में बड़ा खुलासा, इस बदमाश ने सबसे पहले चलाई थी गोली!

पिता की मौत के बाद उठाए हथियार

बागपत के टीकरी कस्बे के रहने वाले सुनील राठी के पिता नरेश राठी की हत्या 1999 में चुनावी रंजिश के चलते कर दी गई थी। जिसके बाद उसने बदला लेने के लिए हथियार उठाए थे। जिसके बाद पुलिस ने 2001 में राठी को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था। जिसके बाद से ही वह सलाखों के पीछे है।

यह भी पढ़ें : मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के बाद सुनील राठी को इस वजह से सता रहा मौत का डर

17 साल में एक दर्जन जेल में रह चुका राठी

बता दें कि 2001 में गिरफ्तार होने के बाद राठी पिछले 17 सालों में तीन राज्य उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दिल्ली की करीब एक दर्जन जेलों में रह चुका है। जेल में रहते हुए ही उसने अपने गैंग को मजबूत किया। जिसके तार अब विदेशों तक जुड़े बताए जा रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो राठी के गिरोह के कई लोग विदेशों में भी हैं जिनके संपर्क में वह लगातार बना हुआ है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned