पीएम मोदी ने दो साल पहले किया था नोटबंदी का ऐलान, कंगाल हो गया यह करोड़पति, बेटा हो गया मानसिक रूप से बीमार

पीएम मोदी ने दो साल पहले किया था नोटबंदी का ऐलान, कंगाल हो गया यह करोड़पति, बेटा हो गया मानसिक रूप से बीमार

sharad asthana | Publish: Nov, 08 2018 11:14:44 AM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

8 नवंबर 2016 की रात करीब 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीवी चैनलों और रेडियो के माध्‍यम से किया था नोटबंदी का ऐलान

मेरठ। आठ नवंबर 2016 की रात कुछ ऐसा हुआ था कि पूरा देश हिल गया था। वैसे तो वह दिन हर देशवासी को याद है। फिर भी आपको बता दें क‍ि 8 नवंबर 2016 की रात करीब 8 बजे जब सभी देशवासी अपने घर पर टीवी के नजदीक बैठे थे, तब प्रघानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ऐलान किया था। उन्‍होंने टीवी चैनलों और रेडियो के माध्‍यम से नोटबंदी का ऐलान किया था। उसके बाद 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिए गए थे। इसके बाद तो पूरे देश में अफरा-तफरी मच गई थी।

यह भी पढ़ें: नोटबंदी को पूरे हुए दो साल,60 फीसदी तक कालाधन सिस्टम में आया वापस

बेचना पड़ा करोड़ों का होटल

इसके बाद कुछ दुष्‍परिणाम भी देखने को मिला। इसकी वजह से एक करोड़पति भी कंगाल हो गया। उसकी हालत इतनी खराब हो गई कि अपना करोड़ों का होटल भी बेचना पड़ा। यह होटल कभी मेरठ का शान हुआ करता था। हालांकि, अब उसके मालिक बदल गए हैं। यह कहानी मेरठ के होटल हारमनी इन और ताराचंद पुरी की है।

यह भी पढ़ें: नोटबंदी को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, इन नेताआें के बैंकों की झोली में आ गया था कुबेर का खजाना

Note Bandi

मेरठ के अमीरों में होता था शुमार

ताराचंद पुरी कभी मेरठ में अमीरों में शुमार किए जाते थे। मेरठ के गढ़ रोड पर पुरी पेट्रोल पंप था। पेट्रोल पंप शहर में काफी पहचाना हुआ था। बेटे का नाम हिमांशु पुरी है। गुरुग्राम में उसने पब खोला था। इसके बाद मेरठ में शानदार होटल हारमनी इन की नींव रखी गई। करीब दस साल पहले होटल की शुरुआत हुई थी। जब भी मेरठ में रणजी मैच या बड़ा क्रिकेट टूर्नामेंट होता था तो टीम यहां पर ठहरती थी। इसके अलावा कई बॉलीवुड हीरो का भी यहां आना-जाना हुआ।

यह भी पढ़ें: नोटबंदी को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, इन नेताआें के बैंकों की झोली में आ गया था कुबेर का खजाना

कर्ज में दब गया होटल

कुछ साल पहले तक तो होटल की आमदनी 30 से 35 लाख रुपये तक थी। लोन की किश्‍तें भी दी जा रही थी लेकिन 8 नवंबर 2016 को रात 8 बजे के बाद सब बदल गया। बताया जाता है क‍ि उस ऐलान का असर होटल की आमदनी पर दिखने लगा था। फिर जीएसटी ने भी रंग दिखाया। होटल की आमदनी गिरकर 15-20 लाख रुपये आ गई। किश्‍तें भी अटक गईं। इसके बाद होटल कर्ज में दब गया। मालिक को होटल के स्‍टाफ की सैलरी निकालना भी भारी पड़ने लगा थ। ऐसे में ताराचंद पुरी का पूरा परिवार 2018 में ही 6 मार्च की रात को शहर छोड़कर गायब हो गया।

यह भी पढ़ें: नोटबंदी के बाद सिस्टम में लौटा 99.3 फीसदी नोट, कांग्रेस ने पूछा- झूठ के लिए माफी मांगेगी सरकार

22.5 करोड़ में बिका होटल

फिलहाल इसी साल अभी कुछ माह पहले ही होटल की बोली लगी और वह बिक गया। अब यह होटल व्यापारी नेता नवीन अरोड़ा के साथ अमित चांदाना, राजेश मिगलानी व राजेश जुनेजा का हो गया है। इन्होंने इसे 22.50 करोड़ रुपये में खरीद लिया है। बताया जाता है क‍ि ताराचंद पुरी और बेटे हिमांशु पुरी समेत पूरा परिवार सदमे में है। वे अब अलग-अलग रह रहे हैं। नजदीकी मित्रों की मानें तो हिमांशु मानसिक बीमारी के शिकंजे में है।

Ad Block is Banned