किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पंचायत ने सुनाया हैरान कर देने वाला ये फैसला

खास बातें

  • मेरठ के सरधना क्षेत्र का मामला
  • रिपोर्ट दर्ज के बाद बैठी पंचायत
  • पीड़ित पक्ष मुकदमा लेगा वापस

 

By: sanjay sharma

Published: 05 Sep 2019, 04:59 PM IST

मेरठ। सरधना के एक गांव में 13 वर्षीय किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में सनसनीखेज और हैरतभरा पंचायत का फैसला सामने आया है। इस मामले में पीड़ित पक्ष की ओर से छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। पुलिस इन्हे पकड़ने की तलाश कर रही थी कि दोनों पक्षों की सहमति पर गांव में बैठी पंचायत में ऐसा फैसला सामने आया है कि सब हैरान है। हालांकि पुलिस पंचायत में हुए समझौते की बात से इनकार कर रही है।

यह भी पढ़ेंः VIDEO: वाल्मीकि समाज ने इस बात पर भाजपा नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की और दी ये चेतावनी

पांच लाख रुपये में हुआ समझौता

ग्रामीणों का कहना है कि सामूहिक दुष्कर्म के मामले में गांव में बैठी पंचायत ने दोनों पक्षों को आमने-सामने बिठाकर आरोपित पक्ष को पीड़िता के लिए पांच लाख रुपये देने का फैसला सुनाया है। इस पर आरोपित पक्ष ने यह रकम देने का भरोसा दिलाया है। किशोरी के परिवार ने भी मुकदमा वापस लेने का आश्वासन दिया है। पुलिस ने इस फैसले की जानकारी होने से इनकार करते हुए बताया कि मेडिकल में किशोरी से दुष्कर्म की पुष्टि हो चुकी है। उसकी तबियत पिछले पांच दिनों में ठीक नहीं होने के चलते पुलिस उसके बयान नहीं ले पायी है।

यह भी पढ़ेंः VIDEO: दुष्कर्म के आरोपी ने पीड़िता के भाई को कराया गिरफ्तार, पढ़िए यह सनसनीखेज मामला

एसपी देहात ने यह कहा

एसपी देहात अविनाश पांडेय का कहना है कि किशोरी ने बताया कि हमारी मां ने आरोपित पक्ष से रकम उधार ली थी। इसको लेकर दोनों पक्षों में विवाद चल रहा है। आरोपों की जांच की जा रही है। पुलिस बयान दर्ज कराएगी।

यह था पूरा मामला

पीड़ित पक्ष की ओर से तहरीर दी गई थी कि 13 वर्षीय किशोरी को गांव के ही एक युवक ने खेत में बुलाया था। वहीं पर उसके साथ पांच अन्य युवक भी मौजूद थे। किशोरी ने सभी पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। परिजनों की तहरीर पर सभी आरोपियों पर सामूहिक दुष्कर्म, हत्या का प्रयास, पोक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज हुआ था।

Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned