499 साल बाद बन रहा तीन ग्रहों का दुर्लभ योग, इन राशि वालों की बदलेगी किस्मत

 

Highlights:

-499 साल बाद लग रहे इस संयोग में पूजा होगी शुभ

-गुरू अपनी राशि धनु और शनि अपनी राशि मकर में

-शुभ संकेत लेकर आ रही इस बार दीपावली

By: Rahul Chauhan

Published: 11 Nov 2020, 07:54 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। इस बार दीपावली पर पड़ रहे ग्रहों के दुर्लभ योग में पूजा करना काफी शुभकारी रहेगा। पंडित कैलाश नाथ द्विवेदी के अनुसार 499 साल बाद पड़ने वाले इस संयोग से घर मां लक्ष्मी का वास होगा और समृद्धि होगा। 14 नवंबर को पड़ने वाले इस रोशनी के त्योहार पर तंत्र पूजा का भी विशेष लाभ मिलेगा। पंडित द्विवेदी ने बताया कि 1521 के बाद पहली बार यह दुर्लभ नक्षत्र पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: आय और जाति प्रमाण पत्र व राशन कार्ड बनवाना होगा महंगा, 16 नवंबर से नई फीस होगी लागू

14 नवंबर को देश भर में दीपावली में गुरु ग्रह अपनी राशि धनु में और शनि अपनी राशि मकर में रहेंगे। शुक्र ग्रह कन्या राशि में नीचे रहेगा और इन तीनों ग्रहों का यह दुर्लभ योग वर्ष 2020 से पहले नौ नवंबर 1521 मे देखने को मिला था। गुरु व शनि ग्रह अपनी राशि में आर्थिक स्थिति को मजबूत करने वाले ग्रह माने गए हैं। ऐसे में यह दीपावली शुभ संकेत लेकर आई है।

यह भी पढ़ें: Ajwain का पानी पीने से दूर हो जाएंगी कई बीमारियां, जानिए कैसे करें सेवन

इस मुहूर्त में पूजा करना होगा शुभ :—

दुर्लभ संयोग के चलते आर्थिक सुख—समृद्धि के लिए शुभ मुहूर्त में पूजा करनी चाहिए। 14 नवंबर को स्थिर लग्न वृषभ शाम 5:17 बजे से शाम 7:13 बजे तक है। प्रदोष काल शाम 5:12 से शाम 7:52 तक रहेगा। अमावस्या की तिथि 14 नवंबर को दोपहर 2:12 बजे से 15 नवंबर को सुबह 10:36 बजे तक रहेगी। प्रदोष काल में पूजा करना हितकर होगा।

व्यापारिक प्रतिष्ठान में इस समय करें पूजा :—

दीपावली के दिन सुबह 11:51 से दोपहर 1:11 बजे के पूजन किया जा सकता है। विशेष लाभ के लिए दोपहर 1:11 से दाेपहर 2:31 बजे तक पूजन कराना उत्तम होगा। दाेपहर 2:31 से 3:52 बजे तक पूजन किया जा सकता है। इन मुहूर्त में पूजन करने से व्यापारिक लाभ मिलेगा।

पंडित कैलाश नाथ द्विवेदी ने बताया कि मां श्री महाकाली, भगवान श्रीकाल भैरव की पूजा, तांत्रिक जगत तथा ईस्ट साधना के लिए सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त महानिशीथ काल में है। रात 10:49 बजे से देर रात 1:31 बजे तक पूजन का शुभ मुहूर्त होता है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned