scriptAir Quality Index : वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर पर, प्रदूषण को लेकर रेड अलर्ट | Red alert issued regarding air quality index in NCR | Patrika News
मेरठ

Air Quality Index : वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर पर, प्रदूषण को लेकर रेड अलर्ट

Air Quality Index एनसीआर और पूरे पश्चिमी उप्र भीषण वायु प्रदूषण की चपेट में हैंं। कई जिलों में वायु गुणवत्ता सूचकांका 400 के ऊपर पहुंच गया है। मेरठ मंडल के जिलों में धुंध और धुआं छाया हुआ है। दोनों ही लोगों की सांस के दुश्मन बने हुए हैं। शाम की धुंध रात तक पूरे जिले को आगोश में ले रही है। इस समय उप्र के करीब एक दर्जन शहरों की हवा में जहर घुला हुआ है। मेरठ और आसपास के जिलों में धुंध छाए रहने के आसार हैं। प्रदूषण को लेकर एनसीआर में रेड अलर्ट जारी किया गया है।

मेरठNov 06, 2022 / 09:08 am

Kamta Tripathi

Air Quality Index : वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर,प्रदूषण को लेकर रेड अलर्ट

Air Quality Index : वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर,प्रदूषण को लेकर रेड अलर्ट

Air Quality Index मेरठ मंडल और सहारनपुर मंडल के नौ जिलों में इस समय वायु प्रदूषण से हालात काफी खराब हैं। इन शहरों में पीएम 2.5 की उच्चतम मात्रा 500 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर तक पहुंच गई है। जो बेहद खतरनाक बताई जा रही है। सर्वाधिक खतरनाक बात ये कि मेरठ में पहली बार मोनोआक्साइड की मात्रा खतरे के निशान तक पहुंची है। चिकित्सकों ने सुबह धुंध में मार्निंग वाक करने एवं लोग व्यायाम ना करने की सलाह दी है। पिछले तीन दिन में एनसीआर के शहरों का वायु गुणवत्ता सूचकांक दो गुना हो गया है।
गाजियाबाद और नोएडा सहित कई जिलों में अब कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के बच्चों की आनलाइन क्लास चल रही हैं। वातावरण में पीएम 2.5 की मात्रा का बढ़ना खतरनाक है। पीएम—10 के साथ नाइट्रोजन, ओजोन, कार्बन डाई आक्साइड एवं कार्बन मोनोआक्साइड का स्तर अचानक खतरे के निशान को छूने लगा है। प्रदूषण विभाग ने आगाह किया है कि इस समय हवा में पीएम2.5 की मात्रा 250 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक है। जो कि स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक बताई जा रही है।
यह भी पढ़ें

Weather Update Today : पहाड़ी हवाओं से इन जिलों में पारा 30 डिग्री के नीचे, ठंड दिखाने लगी असर

चिकित्सकों ने लोगों को खुली हवा में शारीरिक परिश्रम से बचने की सलाह दी है। इस समय तेज सांस लेने पर बड़ी मात्रा में प्रदूषित कण फेफड़े तक पहुंचकर ब्रेन, हार्ट एवं अस्थमा अटैक का कारण बन सकते हैं। चिकित्सकों ने सलाह दी है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए फलों व पौष्टिक अनाज का सेवन बढ़ाएं। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हरी सब्जियां खाएं। गहरी धुंध में दौड़ना और व्यायाम पूरी तरह बंद करें।

Hindi News/ Meerut / Air Quality Index : वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर पर, प्रदूषण को लेकर रेड अलर्ट

ट्रेंडिंग वीडियो