सावन के आखिरी सोमवार को बन रहा विशेष संयोग

  • सोमवार से शुरू हुआ सावन सोमवार को हाेगा खत्म
  • आखिरी सोमवार को घरों में होगी भोलेनाथ की पूजा
  • मंदिरों में पहले ही सोमवार को पड़ गए थे ताले

By: shivmani tyagi

Updated: 02 Aug 2020, 11:00 PM IST

मेरठ ( meerut news ) तीन अगस्त काे सावन का आखिरी सोमवार है। इस बार सावन में पूरे पांच सोमवार रहे। यही कारण इस बार सावन के महीने को बहुत शुभ माना जा रहा है। इस बार सावन के महीने में जितने भी सोमवार पड़े उन सभी में विशेष योग बने। अब आखरी साेमवार काे भी विशेष संयोग बन रहा है।

यह भी पढ़ें: नाेएडा में बाल सुधार गृह के आइसोलेशन वार्ड का दरवाजा तोड़कर तीन बाल अपचारी फरार

ज्योतिषाचार्य भारत ज्ञान भूषण के अनुसार सावन का आखिरी सोमवार एक विशेष संयोग के साथ खत्म हो रहा है। तीन अगस्त को सोमवार के दिन पूर्णिमा की तिथि है। इस दिन चंद्रमा मकर राशि में रहेगा। इस दिन सुबह 6 बजकर 40 मिनट तक प्रीति योग भी बन रहा है। इसके बाद से आयुष्मान योग शुरू हो जाएगा। सावन का महीना सोमवार के दिन ही शुरू हुआ था और सोमवार को ही खत्म हो रहा है।

यह भी पढ़ें: चिकित्सीय सेवा के लिए निजी चिकित्सालय व नर्सिंग होम को किसी अनुमति की जरूरत नहीं: CMO

दरअसल पूर्णिमा के दिन सोमवार का आखिरी सोमवार पड़ रहा है। चंद्रमा को पूर्णिमा का देवता माना जाता है और सोमवार का दिन भगवान शिव को समर्पित है। इसलिए ये पूर्णिमा और सोमवार का अद्भुत संयोग है। इसे सौम्या तिथि माना जाता है। इस दिन चंद्रदेव की पूजा करने से हर क्षेत्र में सफलता मिलती है।

घरों में करनी होगी पूजा-अर्चना
सावन के आखिरी सोमवार को लोगों को घरों में ही पूजा-अर्चना करनी होगी। कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों के कपाट अभी नहीं खोले गए हैं जिसके कारण घरों में ही भोलेनाथ का अभिषेक और पूजा अर्चना की जा सकेगी। सावन के पहले सोमवार को नगर के सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों के बाहर पुलिस बल तैनात किया गया था। अभी तक मंदिरों को खोलने का प्रशासन ने कोई निर्णय नहीं लिया है।

Shivratri
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned