यहां के छात्रों ने नंगे पैर दी परीक्षा, एेसा क्याें हुआ हैरान रह जाएंगे!

यहां के छात्रों ने नंगे पैर दी परीक्षा, एेसा क्याें हुआ हैरान रह जाएंगे!

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Mar, 14 2018 01:04:55 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ की मुख्य परीक्षा शुरू हुर्इ, कालेजों के गेट पर उतरवाए जूते-मोजे

 

मेरठ। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएट की मुख्य परीक्षा शुरू हो गई। नकल रोकने के शासन के सख्त निर्देशों के चलते कर्इ कालेजों में जूते-मोजे पहने पहुंचे छात्रों को प्रवेश नहीं दिया गया। गेट पर जूते उतरवाने के बाद छात्रों को नंगे पैर कक्षा में परीक्षा देनी पड़ी। साथ ही कालेज के सचल दस्तों ने कालेज का निरीक्षण करके छात्र-छात्राआें पर कड़ी निगरानी रखी। कुछ कालेजों में एक दिन पहले ही बता दिया गया था कि परीक्षा में जूते-मोजे पहनकर मत आना। विश्वविद्यालय के नौ जनपदों में परीक्षाएं शुरू हुर्इ हैं। पहले दिन फाउंडेशन कोर्स की परीक्षा में मेरठ और सहारनपुर मंडल से करीब एक लाख छात्र-छात्राएं सम्मिलित हुए।

यह भी पढ़ेंः कुख्यात तमंचे के बल पर पुत्रवधू को ले गया अपने साथ...आैर दो दिन तक...!

यह भी पढ़ेंः बिजली के बड़े कनेक्शनों की रीडिंग में हो रहा था बड़ा घालमेल, जिम्मेदार अफसरों पर हुर्इ यह कार्रवार्इ

मोबाइल-हेलमेट के लिए पेड काउंटर

डीएन कालेज में परीक्षार्थियों को एक दिन पहले ही जूता और मोजा पहनकर न आने के लिए कहा गया था, लेकिन बहुत से छात्र- छात्राएं जूते पहनकर पहुंचे तो उनके जूते को बाहर निकालकर प्रवेश दिया गया। परीक्षार्थियों को नंगे पैर परीक्षा में सम्मिलित होना पड़ा। मेरठ कालेज में बहुत से छात्र मोबाइल लेकर पहुंचे तो उनके मोबाइल बाहर रखे गए। मोबाइल रखने के लिए कालेज में एक पेड काउंटर भी बना दिया गया था। जहां हेलमेट और मोबाइल जमा करने के पांच-पांच रुपये छात्रों से लिए गए। इस्माईल और कनोहर लाल गर्ल्स डिग्री कालेज ने भी छात्राओं को जूते की जगह चप्पल पहनकर परीक्षा के दौरान आने को कहा गया।

यह भी पढ़ेंः जेल के दस कैदियों में HIV की पुष्टि से हड़कंप, प्रशासन ने उठाए यह कदम

यह भी पढ़ेंः पड़ोसी युवक की शादी हो रही है, यह सुनते ही नाबालिग ने कर दिया यह काम

 

 

 

 

 

Ad Block is Banned