प्रदर्शनी में चर्चा का विषय बना यह किसान, 57 प्रकार के अनेक गुड़ किए तैयार, कीमत कर देगी हैरान

मेरठ के एक किसान ने अपनी मेहनत और लगन से एक नहीं, दो नहीं बल्कि पूरे 57 प्रकार के गुड़ तैयार किए हैं। अनेक प्रकार के गुड़ तैयार करने के साथ ही इसकी कीमत भी चर्चा का विषय बनी हुई है।

By: Karishma Lalwani

Published: 16 Dec 2020, 12:20 PM IST

मेरठ. मेरठ के एक किसान ने अपनी मेहनत और लगन से एक नहीं, दो नहीं बल्कि पूरे 57 प्रकार के गुड़ तैयार किए हैं। अनेक प्रकार के गुड़ तैयार करने के साथ ही इसकी कीमत भी चर्चा का विषय बनी हुई है। सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय में प्रदर्शनी लगी है। इस प्रदर्शनी में सहारनपुर निवासी संजय सैनी चर्चा में हैं। यहां उन्होंने 57 प्रकार के अनेक गुड़ सहित पांच हजार रुपये प्रति किलो वाले गुड़ का स्टॉल लगाया गया है। यह कीमत लोगों को हैरान कर देने वाली है क्योंकि आमतौर पर बाजार में बिकने वाले गुड़ की कीमत इससे कई गुना कम होती है।

हींग, जड़ी बूटी समेत अनेक प्रकार के गुड़

सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय में लगी प्रदर्शनी में संजय सैनी के स्टॉल के पास लोगों की भीड़ लगी हुई है। यहां हींग, जड़ी बूटी, ड्राई फ्रूट समेत अनेक प्रकार के गुड़ मौजूद हैं। इन सबके स्वाद के साथ वैरायटी भी अलग है। प्रदर्शनी में स्वर्णभस्म गुड़ है जिसकी कीमत पांच हजार रुपये प्रति किलो है। ड्राई फ्रूट वाला गुड़ भी हाथों हाथ बाजार में बिक रहा है। किसान के पास विभिन्न राज्यों से गुड़ के ऑर्डर आ रहे हैं। संजय सैनी का कहना है कि अब तो उनके गुड़ की डिमांड लोग अपने घरों के फंक्शन में भी करने लगे हैं। इस गुड़ को जिसने भी खाया वो 'वाह' कह उठा।

किसान आंदोलन नहीं पीएम मोदी के सपने को करना है साकार

संजय सैनी पीएम मोदी के बहुत बड़े प्रशंसक हैं। वे किसान आंदोलन का हिस्सा नहीं हैं। उनका कहना है कि उनके पास इतना समय नहीं कि वे किसान आंदोलन में शामिल हों। उन्हें तो बस पीएम मोदी का सपना साकार करना है। उन्होंने कहा कि वे अपनी आय को कई गुना दोगुना करना चाहते हैं और इसके लिए वे जी तोड़ मेहनत भी करेंगे।

आर्थेराइटिस वालों के लिए फायदेमंद है मेथी

किसान का कहना है कि गुड़ हमारी सेहत दुरुस्त रखता है। किसान ने बताया कि अगर हम मेथी का गुड़ इस्तेमाल करते हैं तो कभी आर्थेराइटिस नहीं होगा। अगर हम सौंफ धनिया आजवाइन का गुड़ दोपहर में इस्तेमाल करते हैं तो कभी पित्त की बीमारी नहीं होगी और शाम को अगर लौंग, जावित्री, सोंठ, काली मिर्च का गुड़ इस्तेमाल करते हैं तो कफ नहीं बनेगा।

ये भी पढ़ें: काशी को 186 करोड़ की लागत से बने कंवेंशन सेंटर का मिलेगा तोहफा, जानें क्या है इसकी खासियत

ये भी पढ़ें: 32 कस्बों को नगर पंचायत का दर्जा देगी योगी सरकार, प्रस्ताव तैयार

Show More
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned