सपना चौधरी को दे चुका है एडवांस, कार्यक्रम की परमिशन मांगने गया व्यापारी तो, यूपी पुलिस बोली... बाप रे बाप.. ना बाबा ना

सपना चौधरी को दे चुका है एडवांस, कार्यक्रम की परमिशन मांगने गया व्यापारी तो, यूपी पुलिस बोली... बाप रे बाप.. ना बाबा ना

Ashutosh Pathak | Updated: 14 Jun 2019, 11:55:33 AM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

  • सपना चौधरी का नाम सुनकर मेरठ में एसपी सिटी ने पकड़ लिया माथा
  • सपना के कार्यक्रम के लिए व्यापारी पहुंचा था परमिशन मांगने
  • एसपी सीटी ने कहा परमिशन तो किसी हाल में नहीं मिलेगी

मेरठसपना चौधरी मशहूर डांसर और रागिनी गायिका वैसे तो हरियाणा की हैं, लेकिन इनके दीवाने यूपी और बिहार तक में हैं। खास तौर पर पश्चिमी यूपी में तो आए दिन कहीं न कहीं सपना चौधरी का कार्यक्रम होता रहता है। लेकिन सपना चौधरी का कार्यक्रम शांती से निपट जाए ऐसा हो ही नहीं सकता। इसलिए अब तो सपना चौधरी का नाम सुनते ही पुलिस प्रशासन भी अपने हाथ खड़ा कर दे रही है। कुछ ऐसा मामला सामने आया मेरठ से।

सपना के कार्यक्रम को परमिशन नहीं
मेरठ पुलिस के उस वक्त होश उड़ गए जब एक एक व्यापारी सपना के कार्यक्रम की परमिशन मांगने एसपी सिटी के पास पहुंचा। सपना के कार्यक्रम का नाम सुनते ही एसपी सिटी ने माथा पकड़ लिया और बिना एक पल सोचे कहा बार रे बाप.. ना, परमिशन तो किसी हाल में नहीं मिलेगी।

कानून व्यवस्था खराब होने की जताई संभावना
दरअसल मेरठ के व्यापारी विमल गोयल ने कार्यक्रम के लिए सपना को एडवांस पैसा भी दे रखा है। लेकिन अब मेरठ पुलिस ने कार्यक्रम की परमिशन देने में हाथ खड़े कर लिए। एसपी सिटी डॉ. अखिलेश नारायण सिंह का कहना है कि किसी भी सूरत में परमिशन नहीं दूंगा। कानून व्यवस्था खराब हो सकती है। इस दौरान व्यापारी विमल गोयल परमिशन के लिए बार-बार पैसे की दुहाई देते रहे कि पैसे डूब जाएंगे, तो इस पर एसपी सिटी ने कहा कि इस संबंध में मुझसे बात मत करो।

व्यापारी दे चुका है सपना को एडवांस

बावजूद इसके काफी देर तक व्यापारी सपना चौधरी के कार्यक्रम की परमिशन के लिए एसपी सिटी के सामने गिड़गिड़ाते रहे। लेकिन एसपी सिटी ने कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी। उन्होंने कहा सपना के कार्यक्रम को तो भूल जाओ।

पहले भी कार्यक्रम में हो चुका है बवाल

हाल ही में सपना चौधरी का क्रर्यक्रम मुरादाबाद में हुआ, जहां दर्शक बेकाबू हो गए, स्टेडियम में भगदड़ का माहौल बन गया, जिस पर भीड़ नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल प्रयोग तक करना पड़ गया। सिर्फ मुरादाबाद ही नहीं दूसरे जगहों पर भी कुछ ऐसा ही सुनने को मिलता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned