इस जज्बे को सलामः कैंसर से जूझते बुजुर्ग ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए मांगी भीख, फिर दान में दे दी सारी रकम

इस जज्बे को सलामः कैंसर से जूझते बुजुर्ग ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए मांगी भीख, फिर दान में दे दी सारी रकम

गुजरात के एक बुजुर्ग भिखारी खिमजी प्रजापति ने भीख मांग किया ये काम।

नई दिल्ली। आपने अमीरों को दान करते सुना होगा, लेकिन कभी ये सुना है कि किसी भिखारी ने भीख मांगकर पैसे दूसरों की मदद के लिए दान में दिए हो, शायद नहीं। लेकिन गुजरात के महेसाणा में रहने वाले 71 साल के कैंसर पीड़ित एक बुजुर्ग भिखारी ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए ऐसा कर मानवता की मिसाल पेश की है।

यह भी पढ़ें-जिग्नेश मेवाणी: दलित मोदी सरकार की हिटलिस्ट में, चार साल में हुआ सबसे ज्यादा हमला

भीख मांग कर जुटाए 5 हजार रुपए

खिमजी प्रजापति ने अपने सेहत की परवाह किए बगैर भीख मांग-मांग कर 5 हजार रुपए जमा किए। फिर भीख मांगकर जुटाई गई राशि उन्होंने शनिवार को केलक्टर को सौंपी। बता दें कि खिमजी प्रजापति कैंसर से पीड़ित हैं। वह भीख मांगकर अपना पेट भरते हैं। वह अपनी दवाई का खर्च भी बड़ी मुश्किल से ही निकाल पाते हैं। लेकिन इन सब के बावजूद भी उन्होंने पैसे जुटा कर केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद की।

कैंसर से पीड़ित हैं खिमजी प्रजापति

खिमजी प्रजापति ने बताया कि उन्हें तीन महीने पहले ही पता चला की उन्हें कैंसर की बीमार है। वहीं, जब उन्हें केरल के बाढ़ पीड़ितों की हालत के बारे में जानकारी हुई तो उन्हें बहुत दुख हुआ, जिसेक बाद उन्होंने उनकी मदद करने के भीख मांग कर पांच हजार रुपए जुटाएं। उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों की मदद करने से ज्यादा खुशी की और कोई बात नहीं होती। मुझे खुशी है कि मैं उन लोगों की मदद कर पाया। खिमजी ने कहा कि पैसों की जरूरत मुझसे ज्यादा बाढ़ पीड़ितों को है।

यह भी पढ़ें-जिग्नेश मेवाणी: दलित मोदी सरकार की हिटलिस्ट में, चार साल में हुआ सबसे ज्यादा हमला

'लिटरेसी हीरो अवॉर्ड' से हो चुके हैं सम्मानित

आपको बता दें कि यह कोई पहली बार नहीं है कि खिमजी ने ऐसा कुछ किया हो। वह अक्सर ही जरूरत मंदों की मद्द करते रहते हैं। वे दूसरों की मदद करने के मामले में खिमजी हमेशा आगे रहते हैं। यही वजह है कि लोगों की मदद करने के लिए प्रजापति को क्लब ऑफ इंडिया ने पीछले साल 'लिटरेसी हीरो अवॉर्ड' से सम्मानित भी किया था।

Ad Block is Banned