Aarogya Setu App से अब अपना डेटा हटा सकेंगे Users, लेकिन लगेगा इतना समय

  • Aarogya Setu App में सरकार ने किया बड़ा बदलाव
  • Users अब आरोग्य सेतु एप से अपना Account डिलीट कर सकेंगे
  • App में एड हुए नये फीचर्स, बढ़ी कुछ और सुविधाएं

नई दिल्ली। पूरा देश इन दिनों कोरोना वायरस ( coronavirus in India ) की चपेट में है। इस महामारी को रोकने और उसकी चेन को तोड़ने के लिए लॉकडाउन ( India Lockdown ) लागू है। इसके बावजूद COVID-19 का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। वहीं, इस वायरस के बारे में जानकारी जुटाने के लिए केन्द्र सरकार ने Aarogya Setu नामक एक App भी लॉन्च कर रखा। इस App के जरिए कोरोना पीड़ितों और इलाकों के बारे में जानकारी जुटाई जाती है। लेकिन, केन्द्र सरकार ( Central Government ) ने अब इस एप में एक नया फीचर एड किया है, जिसके तहत यूजर्स अब अकाउंट के साथ-साथ अपना पूरा डेटा भी डिलीट कर सकेंगे।

Aarogya Setu App में बदलाव

भारत सरकार ( Indian Government ) ने Aarogya Setu App में बड़ा अपडेट करते हुए एक नया ऑप्शन जोड़ा है। इसके तहत कोई भी यूजर्स स्थायी तौर पर अपने अकाउंट ( Account ) डिलीट कर सकते हैं। साथ ही आपका पूरा डेटा भी डिलीट हो जाएगा। हालांकि, इस प्रक्रिया को करने में आपको तकरीबन 30 दिन का समय लगेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि App को डिलीट करने के बाद 30 दिनों तक आपको डेटा सरकार ( Government Server ) के सर्वर पर मौजूद रहेगा। उसके बाद यह डेटा डिलीट हो पाएगा। इसके अलावा इस App में एक नया फीजर ( Feature Add On Aarogya Setu App ) भी जोड़ा गया है। जिसके जरिए यूजर्स अपने Bluetooth कांटैक्ट के आधार पर जोखिम स्थिति का आकलन कर सकते हैं। इतना ही नहीं किसी अन्य स्वास्थ्य App के यूजर आपके डेटा को सेटिंग और अप्रूवल फॉर आरोग्य सेतु स्टेट्स ( Aarogya Setu Status ) में जाकर भी देख सकते हैं। फिलहाल, यह सुविधा Android App पर उपलब्ध है। बताया गया है कि जल्द ही IoS पर यह सुविधा उपलब्ध हो जाएगी।

COVID-19 को लेकर आरोग्य सेतु एप किया गया था लॉन्च

यहां आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ( Central Government ) ने लोगों से Aarogya Setu App अपील डाउनलोड करने की अपील की थी। साथ ही कई जगहों पर काम करने वालों और आने-जाने वाले लोगों के लिए इस App को डॉउनलोड करना अनिवार्य किया गया है। ऐसा नहीं करने पर दंडात्मक प्रावधानों के तहत कार्रवाई करने की भी बात कही गई है। रेल यात्रा और हवाई यात्रा के दौरान भी इस App को अनिवार्य किया गया है। सरकार का मानना है कि इस एप के जरिए कोरोना मरीजों की पहचान आसानी से हो सकती है। साथ खतरे वाले एरिया के बारे में भी जानकारी जुटाया जा सकता है।

Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned