बाबरी विध्वंस पर दिए बयान पर भड़के अबू आजमी, बोले- ठाकरे ये न भूलें कि वे राज्य के मुखिया हैं

Highlights

  • कहा, मुस्लिम मंत्रियों को शर्म आनी चाहिए, उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।
  • राज्य में मुस्लिमों के लिए पांच प्रतिशत आरक्षण लागू करे सरकार।

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख अबू आजमी ने अयोध्या में 1992 में हुए बाबरी विध्वंस पर दिए बयान को लेकर राज्य के सीएम उद्धव ठाकरे पर सख्त नाराजगी दिखाई है। आजमी के अनुसार ठाकरे ये न भूलें कि वे राज्य के मुखिया हैं।

केरल: भाजपा के सीएम उम्मीदवार होंगे मेट्रो मैन श्रीधरन, राज्य को कर्ज से मुक्त करने का संकल्प लिया

यह कहा था मुख्यमंत्री ठाकरे ने

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन ठाकरे ने अपने भाषण में भाजपा पर जमकर निशाना साधा था। ठाकरे ने कहा कि जब बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ था उस समय वे सब वहां से भाग खड़े हुए थे। तब शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे ने कहा था, अगर इस घटना में शिव सैनिक शामिल हैं, तो उन्हें इस पर गर्व है। आज हिंदुत्व की बात करने वाले बताएं कि उस समय हिंदुत्व कहां चला गया था जब जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर भाजपा ने सरकार बनाई थी?

इस पर आजमी का कहना है कि उद्धव ठाकरे भूल गए हैं कि वे सिर्फ शिवसेना नेता नहीं हैं, वे राज्य के प्रमुख भी हैं। उन्हें ऐसी बातें नहीं कहना चाहिए। आजमी ने कह दिया कि महाआघाड़ी सरकार में शामिल मुस्लिम मंत्रियों को शर्म आनी चाहिए। उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।

आजमी ने कहा कि वे एनसीपी व कांग्रेस से कहना चाहते हैं कि यह महाआघाड़ी सरकार न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत बनी है,लेकिन वह मंंदिर व मस्जिद की बात कर रही है।

महाराष्ट्र के सपा प्रमुख ने आगे कहा कि ठाकरे ने कहा था कि वह महाराष्ट्र में सीएए-एनआरसी लागू नहीं करेंगे। कांग्रेस-एनसीपी ने कहा था कि राज्य में मुस्लिमों के लिए पांच प्रतिशत आरक्षण लागू करेंगे, अब वे सत्ता में हैं। उन्हें कदम उठाना चाहिए।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned