Good News : अब आराम से मिलेंगे प्‍लाज्‍मा डोनर, नए App से किया जाएगा ट्रैक, जानिए इसके खासियत

Highlights
- ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (Drug Controller General of India) (DCGI) ने गंभीर कोरोना मरीजों (Corona patients) के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी (Plasma therapy) को मंजूरी दी है
- अब देश में कोरोना वायरस (Coronavirus Outbreak) के गंभीर मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी (Plasma therapy)दी जा सकेगी
- आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) के छात्रों ने ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टिट्यूट (All India Medical Institute) के साथ मिलकर एक ऐप तैयार किया है

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus in India) का कहर आज पूरी दुनिया में जारी है। इस महामारी के इलाज के लिए फिलहाल कोई वैक्सीन (Corona Vaccines) नहीं सामने आई हैं। इस बीच ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (Drug Controller General of India) (DCGI) ने गंभीर कोरोना मरीजों (Corona patients) के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी (Plasma therapy) को मंजूरी दी है। अब देश में कोरोना वायरस (Coronavirus Outbreak) के गंभीर मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी (Plasma therapy)दी जा सकेगी।

जिनकी हालत में सुधार नहीं हो रहा है उनका इलाज प्लाज्मा थेरेपी से किया जाएगा। इसी को ध्यान में रखते हुए एम्स के डॉक्टर (AIIMS Doctor) ने कोरोना संक्रमित मरीजों को बड़ी राहत दी है। आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) के छात्रों ने ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टिट्यूट (All India Medical Institute) के साथ मिलकर एक ऐप तैयार किया है। इस ऐप (APP) का नाम है COPAL 19 है। यह ऐप प्लाज्मा डोनर (App Plasma Donor) को करोना के क्रिटिकल मरीजों से जोड़ेगा जिसे जरूरत पड़ने पर प्लाज्मा लिया जा सके।


जानिए इस ऐप की खासियत

- इस ऐप के जरिए कोरोना वायरस को मात दे चुके लोगों का प्लाज्मा मिलने में मदद मिलेगी।
- यह ऐप डॉक्टर्स डे पर लॉन्च की गयी।
- खून की कमी होने पर इस ऐप के माध्यम से, हमारे पास दानदाताओं की सूची होगी, और मरीज प्लाज्मा थेरेपी के लिए अपने रक्त समूह के अनुसार रक्त की मांग कर सकेंगे।
- अभी तक लगभग 70 दानदाताओं को लाने में सफल रहे हैं, ऐसे में जैसे जैसे लोग इस ऐप के बारे में जानेंगे हमारे पास और भी डोनर्स आने की संभावना है।

जानिए कैसे करता है काम

इस ऐप में 2 सेक्शन हैं, एक पेशेंट के लिए और एक डोनर के लिए। इन दोनों सेक्शन में नाम, उम्र, ब्लड ग्रुप, एड्रेस आदि जानकारी ली जाती है। इसके बाद इस डेटा को इकट्ठा कर डोनर को बताया जाता है कि वे कब और कहां प्लाज्मा डोनेट कर सकते हैं। साथ ही जिन लोगों ने प्लाज्मा के लिए रिक्वेस्ट किया है, उनसे भी संपर्क करके उन तक प्लाज्मा पहुंचाया जाएगा।

जानिए क्या कहते हैं डॉक्टर

एम्स में जूनियर रेजिडेंट डॉ. अभिनव वर्मा ने कहा कि ''जब हमने देखा कि इतने सारे लोग हर दिन ICU में एडमिट हो रहे हैं, उनकी हालत क्रिटिकल हो रही है और प्लाज्मा थेरेपी के लिए प्लाज्मा की कमी हो रही है तो हमने तय किया कि एक ऐसा ऐप तैयार किया जाए। इसमें आईआईटी दिल्ली के छात्रों ने हमारी मदद की''।

इन देशों में हो रहा है प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल

बता दें कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल सिर्फ भारत में ही नहीं हो रहा है, बल्कि दुनिया के कई अन्य देशों में भी इस थेरेपी का इस्तेमाल किया जा रहा है। भारत के अलावा अमेरिका, स्पेन, दक्षिण कोरिया, इटली, टर्की और चीन समेत कई देशों में इसका इस्तेमाल हो रहा है।


कोरोना वायरस अपडेट

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के कुल केस छह लाख के पार हो गए हैं। देश में कुल मामले फिलहाल 6 लाख 5 हजार के पार हो गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार देश में हुई अब तक 17 हजार से ज्यादा जानें गई हैं, इनमें 8 हजार मौतें अकेले महाराष्ट्र से हुई हैं। अकेले राजधानी मुंबई में ही किसी भी अन्य राज्य से ज्यादा मौतें (4,631) हुई हैं। दूसरी तरफ कर्नाटक में 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 1,272 ताजा केस आए।

सात लोगों की मौत हो गई, जिसके बाद सूबे में इससे मरने वालों की कुल संख्या 253 हो गई है। वहीं, महाराष्ट्र में कुल केस बढ़कर 1,80,298 हो गए हैं। आज वहां 5,537 ताजा मामले आए, जबकि 198 लोगों की मौत हो गई। इसी बीच, दिल्ली में भी कोरोना के 2,442 फ्रेश केस निकले। राष्ट्रीय राजधानी में इसके बाद कुल केस 89,802 हो गए हैं।

coronavirus Coronavirus in india Coronavirus Outbreak COVID-19
Show More
Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned