अमरनाथ यात्रा : हाईटेक सुरक्षा इंतजामों के बीच पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन करेगा पहला जत्था

  • 15 अगस्त को अमरनाथ यात्रा ( AmarNath Yatra ) का होगा समापन
  • श्रद्धालुओं का पहला जत्था 30 जून को जम्मू से रवाना
  • यात्रा के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

नई दिल्ली। आज से अमरनाथ यात्रा ( Amarnath yatra ) की शुरुआत रही है। सोमवार को पहला जत्था पवित्र गुफा में शिवलिंग का दर्शन करेगा। इस बार अमरनाथ यात्रा 46 दिनों तक चलेगी और 15 अगस्त को यात्रा का समापन होगा। श्रद्धालुओं का पहला जत्था 30 जून को जम्मू से रवाना हुआ है। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार के के शर्मा ने जम्मू बेस कैंप से जत्थे को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ताजा जानकारी के मुताबिक अब तक देश भर से करीब डेढ़ लाख श्रद्धालुओं ने इस यात्रा के लिए पंजीकरण कराया है। अनंतनाग जिले के पहलगाम और गांदेरबल जिले के बालटाल से यह यात्रा शुरू की जाती है।

यात्रा के लिए सुरक्षा की तगड़ी व्यवस्था

अमरनाथ यात्रा ( AmarNath Yatra ) को लेकर सुरक्षा की तगड़ी व्यवस्था की गई है। सुरक्षा का जिम्मा सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस को सौंपा गया । सीआरपीएफ ने 40,000 अतरिक्त सुरक्षाकर्मियों को लगाया है। इसके इलावा बीएसएफ और एसएसबी के जवानों की तैनाती भी की गई है। पहलगाम और बालटाल के रास्तों पर करीब 60 हज़ार सुरक्षाबल तैनात किए जाएंगे।

ये भी पढ़ें: तो इस वजह से अमरनाथ में घटता-बढ़ता रहता है शिवलिंग, जानें इससे जुड़े 10 रहस्य

AmarNath Yatra

हर गाड़ी और श्रद्धालुओं की होगी ट्रैकिंग

इस बार रूट की निगरानी के लिए नई तकनीकों का इस्तेमाल किया गया है। रूट में यात्रियों की देखरेख के लिए हाई रिजोल्यूशन सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही रेडियो टैग से गाड़ियों को ट्रैक करने की तकनीक भी इस्तेमाल की जा रही है, जिससे उनपर निगरानी रखी जा सके।

यात्रियों को बार कोड लगी हुई रजिस्ट्रेशन स्लिप भी मुहैया कराई गई है, जिससे किसी भी श्रद्धालु की पूरी जानकारी पता की जा सकती है।

ये भी पढ़ें: श्रीकृष्ण की अस्थियों से बनी हैं जगन्नाथ की मूर्तियां, मंदिर से जुड़े ये 10 रहस्य भी हैं रोचक

Amarnath Yatra

यात्रा पर बारिश की संभावना

अमरनाथ यात्रा ( AmarNath Yatra ) पर के दौरान बारिश के आसार हैं। इस दौरान मानसून चरम पर रहता है। बारिश की संभावना ज्यादा रहती है। मौसम विभाग की मानें तो जुलाई- अगस्त में मानसून पीक पर होता है। हालांकि मौसम विभाग वेदर जांचने के लिए कई नए उपकरण लगाए हैं।

साल दर साल बढ़ रहीं यात्रियों की संख्या

बता दें कि साल दर साल अमरनाथ श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती जा रही है। 2016 में 2 लाख 20 हजार श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिवलिंग का दर्शन किया था। जबकि 17 में 2 लाख 60, 000 वहीं 2018 में 2 लाख 85 हजार यात्रियों ने दर्शन किए। इस बार यह आंकड़ा और ज्यादा बढ़ेगा।

Amarnath Yatra

ये भी पढ़ें: नीतीश सरकार के खिलाफ उपेंद्र कुशवाहा का 2 जुलाई से मार्च, मुजफ्फरपुर से पटना तक पैदल यात्रा

ऐसे करें अमरनाथ यात्रा ( AmarNath Yatra ) का रजिस्ट्रेशन

-पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर होता है रजिस्ट्रेशन

- यात्रा के लिए स्वास्थ्य प्रमाण पत्र देना जरूरी

- गर्भवती महिला का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा

- -एक यात्रा परमिट पर सिर्फ एक यात्री का रजिस्ट्रेशन होगा मान्य

- 13 साल से कम और 75 साल से ज्यादा की उम्र पर रजिस्ट्रेशन नहीं

Show More
prashant jha
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned