आज से कोई भी लगवा सकेगा कोरोना वैक्सीन, 45 से ज्यादा उम्र और रजिस्ट्रेशन जरूरी

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को पत्रकार वार्ता के दौरान घोषणा की कि 1 अप्रैल यानी आज से कोरोना वैक्सीन लगवाने के नियमों में एक नया बदलाव किया जा रहा है।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की एक नई लहर से जूझ रहे देश में इसकी वैक्सीन को लेकर अब केंद्र सरकार ने नई घोषणा की है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान ऐलान किया कि 1 अप्रैल यानी आज गुरुवार से कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर लागू मौजूदा एक नियम में ढील दी जा रही है और 45 वर्ष से ज्यादा आयु का कोई भी व्यक्ति वैक्सीन लगवा सकेगा। हालांकि इसके लिए उसे पहले रजिस्ट्रेशन जरूर करवाना होगा।

यह भी पढ़ेंः 2015 में दी थी कोरोना महामारी की चेतावनी और अब बिल गेट्स ने की दो अगली आपदाओं की भविष्यवाणी

मंगलवार को कोरोना वायरस से जुड़े अपडेट के लिए आयोजित केंद्र सरकार के संवाददाता सम्मेलन के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा, "भारत में पाए गए मामलों में अब तक 807 यूके वेरिएंट, 47 दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट और 1 ब्राज़ीलियन वेरिएंट पाए गए हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "फिलहाल देश में साप्ताहिक राष्ट्रीय औसत सकारात्मकता दर यानी नेशनल एवरेज पॉजिटिविटी रेट 5.65 फीसदी है। महाराष्ट्र में साप्ताहिक औसत 23 फीसदी, पंजाब में साप्ताहिक औसत 8.82 फीसदी, छत्तीसगढ़ में 8 फीसदी, मध्य प्रदेश में 7.82 फीसदी, तमिलनाडु में 2.50 फीसदी, कर्नाटक में 2.45फीसदी, गुजरात में 2.2 फीसदी और दिल्ली में 2.04 फीसदी है।"

यह भी पढ़ेंः ठीक होने के बाद भी लोगों का पीछा नहीं छोड़ रहा है कोरोना, डॉक्टरों की बढ़ गई चिंता

भूषण ने आगे बताया, "हमने इन राज्यों के प्रतिनिधियों से बात की। हमने उन्हें बताया कि जब मामले बढ़ रहे हैं तो वे परीक्षण क्यों नहीं बढ़ा रहे हैं। आरटी-पीसीआर परीक्षणों पर ध्यान देने के साथ परीक्षण बढ़ाना आवश्यक है। रैपिड एंटीजेन परीक्षणों का उपयोग घनी आबादी वाले क्षेत्रों में स्क्रीनिंग परीक्षणों के लिए किया जाता है।"

कुछ कमियों को बताते हुए उन्होंने कहा, "हमने पाया कि अधिकांश राज्यों में आइसोलेशन नहीं हो रहा है, लोगों को घर पर आइसोलेट करने के लिए कहा जा रहा है। लेकिन यह निगरानी की जानी चाहिए कि क्या वे वास्तव में ऐसा कर रहे हैं। यदि वे नहीं कर सकते हैं, तो उन्हें संस्थागत रूप से क्वारंटीन होना चाहिए। दिल्ली इसके माध्यम से संख्या को नियंत्रण में लाने में सक्षम थी।"

BIG NEWS: शोध में हुआ बड़ा खुलासा, इन व्यक्तियों में कोरोना वैक्सीन की एक ही डोज कारगर

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर की गई नई घोषणा के बारे में भूषण ने कहा, "1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग टीकाकरण के लिए पात्र होंगे। इसके लिए एडवांस अप्वाइंटमेंट की बुकिंग http://cowin.gov.in के माध्यम से की जा सकती है। अगर आप ऐसा नहीं करना चाहते हैं, तो आप दोपहर 3 बजे के बाद अपने निकटतम टीकाकरण केंद्र पर जा सकते हैं और ऑन-साइट पंजीकरण करवा सकते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "जो लोग ऑन-साइट पंजीकरण के लिए जाना चाहते हैं, उनसे अनुरोध है कि किसी भी पहचान दस्तावेज के साथ दोपहर 3 बजे के बाद अपने निकटतम टीकाकरण केंद्र पर जाएं। आमतौर पर आधार कार्ड और वोटर आईडी वाले लोग। लेकिन आप बैंक पासबुक, पासपोर्ट, राशन कार्ड भी दिखा सकते हैं।"

BIG NEWS: यहां हो रही स्वस्थ लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित करने की तैयारी, WHO ने कही बड़ी बात

वहीं, नीति आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा, "हम कुछ जिलों में तेजी से गंभीर और गहन स्थिति का सामना कर रहे हैं, लेकिन पूरा देश जोखिम में है। वायरस को रोकने और जीवन बचाने के सभी प्रयास किए जाने चाहिए।"

गौरतलब है कि बीते 16 जनवरी से देशभर में कोरोना वायरस का वैक्सीनेशन शुरू हुआ था। दुनिया के इस सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में केंद्र सरकार ने 30 करोड़ लोगों को प्राथमिकता समूह में शामिल किया था। सरकार ने सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मचारियों और फिर फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया। इसके बाद 60 वर्ष से ज्यादा आयु के लोगों और बीते 1 मार्च से कुछ निर्धारित बीमारियों वाले 45 वर्ष से ज्यादा आयु के लोगों का वैक्सीनेशन शुरू कर दिया गया।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned