scriptArticle 370 and 35A : What is Article 370 and its importance | Article 370 and 35A : धारा 370 के प्रावधान क्या थे? | Patrika News

Article 370 and 35A : धारा 370 के प्रावधान क्या थे?

locationनई दिल्लीPublished: Aug 05, 2021 07:40:07 am

Article 370 and 35A : इस अनुच्छेद को देश के संविधान में शेख अब्दुल्ला के कहने पर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निर्देश पर जोड़ा गया था।

What is Article 370
Article 370 and 35A : नई दिल्ली। भारतीय संविधान में धारा 370 एक ऐसा प्रावधान था जो जम्मू-कश्मीर को देश का अंग होते हुए भी देश से अलग मानता था। संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर ने इसका ड्रॉफ्ट तैयार करने से मना कर दिया था जबकि भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी इसके घोर विरोधी थे। वर्ष 1964 में भी इस धारा को निरस्त करने के प्रयास किए गए थे परन्तु किन्हीं कारणों से ऐसा नहीं हो पाया। अंतत: इस धारा को 5 अगस्त 2019 को मोदी सरकार ने प्रभावहीन कर दिया। आइए जानते हैं कि इस धारा में क्या महत्वपूर्ण था और क्यों कश्मीर की राजनीति में यह अत्यन्त महत्वपूर्ण थी।
इस अनुच्छेद को देश के संविधान में शेख अब्दुल्ला के कहने पर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निर्देश पर जोड़ा गया था। यह धारा राज्य को कुछ विशेष अधिकार देती थी, यथा-
यह भी पढ़ें

Article 370 and 35A : जम्मू-कश्मीर के निवासियों को विशेषाधिकार देता था अनुच्छेद 35ए

  • भारत के राष्ट्रपति के पास राज्य के संविधान को बर्खास्त करने का अधिकार नहीं था।
  • केन्द्र सरकार जम्मू-कश्मीर के रक्षा, विदेश तथा संचार मामले में कानून बना सकती थी परन्तु राज्य सरकार की अनुमति के बिना कोई भी कानून यहां पर लागू नहीं किया जा सकता था।
  • भारत के अन्य राज्यों के निवासियों को जम्मू-कश्मीर में वे अधिकार नहीं मिलते थे जो उन्हें अन्य राज्यों में मिलते थे।
  • भारतीय संविधान की धारा 360 के तहत देश में वित्तीय आपातकाल लगाने के प्रावधान वाली धारा 360 भी जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं होती थी।
  • जनहित याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाए गए निर्णय भी राज्य में लागू नहीं होते थे।
  • जम्मू-कश्मीर में भारतीयों को नागरिकता नहीं मिल सकती थी परन्तु पाकिस्तान से आए प्रवासी सहज ही वहां नागरिक बन सकते थे।
यह भी पढ़ें

Article 370 and 35A : मोदी सरकार के एक निर्णय ने ऐसे बदले राज्य के हालात

पांच अगस्त 2019 को मोदी सरकार द्वारा इस विधेयक को प्रभावहीन किए जाने के बाद अब स्थिति पूरी तरह बदल गई है और देश के अन्य राज्यों के समान ही जम्मू-कश्मीर भी एक सामान्य राज्य बन गया है जहां पर देश का संविधान, सुप्रीम कोर्ट के निर्णय व संसद का कानून एकसमान लागू होता है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

श्रद्धा मर्डर केस: कल आफताब के नार्को टेस्ट के लिए FSL में तैयारी, जानिए तिहाड़ में कैसे गुजरी पहली रातकेजरीवाल का बड़ा दावा! बोले- लिख कर देता हूं गुजरात में बन रही AAP की सरकारमन की बात में पीएम मोदी ने कहा, जी-20 की अध्यक्षता मिलना गौरव की बातपहली बार अरब गणराज्य मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी होंगे गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथिPaid Surrogacy: Russia में foreigners नहीं ले पाएंगे किराए पर कोख, आएगा कानूनIND vs NZ : भारत की उम्मीदों पर बारिश ने फेरा पानी, न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरा वनडे रद्ददुनिया के सबसे अनूठे बाजार 'इमा कैथल' में पहुंचे विदेश मंत्री, बताया महिलाओं की आत्मनिर्भरता-सशक्तिकरण का प्रतीकसत्येंद्र जैन का एक और नया वीडियो, भाजपा ने कसा तंज जेल में लाट साहब के है ठाठ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.