scriptbengaluru also face water crisis like south african city cape-town | केपटाउन की तरह बेंगलूरु को भी बूंद-बूंद पानी के लिए तरसना पड़ सकता है! | Patrika News

केपटाउन की तरह बेंगलूरु को भी बूंद-बूंद पानी के लिए तरसना पड़ सकता है!

केपटाउन के 75 फीसदी घरों की पानी की सप्लाई कट सकती है। इसका असर 10 लाख लोगों पर पड़ेगा। उन्‍हें पीने के लिए भी पानी नहीं मिल पाएगा।

नई दिल्ली

Updated: February 14, 2018 06:44:29 pm

बेंगलूरु : दक्षिण अफ़्रीका का केपटाउन शहर दुनिया का ऐसा पहला शहर बन गया है, जहां पर सरकार ने पानी पर पाबंदी लगा रखी है और जल्‍द ही यहां डे जीरो लगाने की तैयारी रही है। अगर यह लागू हो जाता है तो शहर के 75 फीसदी घरों से पानी की सप्‍लाई काट दी जाएगी, जिसका नतीजा यह होगा कि शहर के तकरीबन 10 लाख लोगों को पीने का पानी नहीं मिल पाएगा।
यह सही है कि केपटाउन पहला ऐसा शहर है, जो इस कदर भयानक जल संकट से गुजर रहा है, लेकिन यह अकेला शहर नहीं है, जो पानी संकट से जूझ रहा है, ऐसे और कई मशहूर शहर हैं, जो भविष्‍य के केपटाउन हो सकते हैं। उनमें भारत के बेंगलूरु का भी नाम है। बेंगलूरु के अलावा ब्राजील शहर साओ पाउलो, अमरीका का मियामी, ब्रिटेन की राजधानी लंदन, जापान की राजधानी टोक्‍यो, काहिरा, जकार्ता आदि समेत कई शहरों के नाम शामिल हैं।

water crisis

बेंगलूरु : सिर्फ 15 फीसदी पीने लायक, आधे से अधिक हो जाता है बर्बाद

दूसरी तरफ यह शहर भारत का आईटी हब है। यहां का विकास किसी भी विकसित देश की शहरों को चुनौती देता नजर आता है। दूसरी तरफ भारत के लिए बड़ी समस्‍या बन चुका जल प्रदूषण से बेंगलूरु भी अछूता नहीं है। इसकी स्थिति इसलिए भी ज्‍यादा भयावह है कि यहां की झीलों का 85 फीसदी पानी पीने या नहाने लायक नहीं है। किसी एक झील का पानी इतना साफ नहीं कि उसे पीने या फिर नहाने लायक माना जाए। इसके अलावा यहां का आधा से अधिक पानी शहर में लगी सप्लाई की पाइपों में ही रिस कर बर्बाद हो जाता है। इसका कारण शहर में पुराने पाइपों का होना, जिसका मरम्‍मत कार्य नहीं किया गया है।

पूरी दुनिया के 70 फीसदी हिस्‍से में पानी, पीने लायक महज 3 फीसदी
पानी को बचाना इसलिए भी जरुरी है, क्‍योंकि धरती की सतह के 70 फ़ीसदी हिस्से में पानी के फैले होने के बावजूद दुनिया में पीने लायक मीठा पानी केवल 3 फ़ीसदी है और ये इतना सुलभ नहीं है।

100 करोड़ लोगों को साफ पानी मयस्‍सर नहीं
दुनिया में सौ करोड़ अधिक लोगों को पीने का साफ़ पानी उपलब्ध नहीं है, जबकि 270 करोड़ लोगों को साल में एक महीने पीने का पानी नहीं मिलता।

क्‍या है पानी की कमी
संयुक्त राष्ट्र के अनुसार 'पानी की कमी' तब होती है जब पानी की सालाना सप्लाई प्रति व्यक्ति 1700 क्‍यूबिक मीटर से कम हो जाती है।

2030 तक 40 फीसदी अधिक होगी मांग
विशेषज्ञों के मुताबिक 2030 तक वैश्विक स्तर पर पीने के पानी की मांग सप्लाई से 40 फीसदी अधिक हो जाएगी। इसके अहम कारण होंगे- जलवायु परिवर्तन, विकास की अंधी दौड़ और जनसंख्या वृद्धि। केपटाउन तो एक संकेत है, अगर अब भी हम नहीं चेतें तो बेंगलूरु समेत दुनिया के कई शरह बूंद-बूंद पानी का तरसेंगे।

 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Delhi News Live Updates: दिल्ली में आज भी मेहरबान रहेगा मानसून, आईएमडी ने जारी किया बारिश का अलर्टLPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामJagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपीRBI गवर्नर शक्तिकान्त दास बोले- खतरनाक है Cryptocurrencyमहाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.