scriptBJP may fight election on population control bill in UP assembly elect | यूपी विधानसभा चुनावों में जनसंख्या नियंत्रण कानून को भाजपा बनाएगी मुद्दा! | Patrika News

यूपी विधानसभा चुनावों में जनसंख्या नियंत्रण कानून को भाजपा बनाएगी मुद्दा!

यूपी सरकार के प्रस्तावित विधेयक में दो से अधिक बच्चों वाले लोगों के लिए सरकारी नौकरी तथा अन्य लाभों को प्रतिबंधित करने तथा एक संतान वाले लोगों को प्रोत्साहन देने की बात कही गई है।

नई दिल्ली

Published: July 16, 2021 12:52:27 pm

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनावों में भाजपा जनसंख्या नियंत्रण विधेयक को मुद्दा बनाना चाहती है। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के अनुसार अभी जनसंख्या नियंत्रण के बारे में बात करने का सर्वोत्तम अवसर है। उनके अनुसार अभी इस मुद्दे पर बात करने के दो प्रभाव होंगे, पहला आम जनता बढ़ती जनसंख्या के खतरों के बारे में समझ चुकी है और काफी हद तक मानसिक रूप से तैयार भी है और दूसरा इससे यह भी अंदाजा हो जाएगा कि क्या वर्ष 2022 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव में इस विषय को चुनावी मुद्दा बनाया जा सकता है।
CM Yogi Adityanat
यह भी पढ़ें

पंजाब कांग्रेस में नहीं थमी जंग, सिद्धू को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनाने से नाराज हुए कैप्टन

उल्लेखनीय है कि काफी समय से न केवल भाजपा वरन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) भी जनसंख्या नियंत्रण के उपायों को लेकर कार्य करने की बात कहता रहा है। संभवतया यही कारण है कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने उत्तरप्रदेश जनसंख्या (नियंत्रण, स्थिरीकरण और कल्याण) विधेयक 2021 के प्रावधानों को सार्वजनिक कर आम जनता से सुझाव मांगे हैं। यूपी सरकार के प्रस्तावित विधेयक में दो से अधिक बच्चों वाले लोगों के लिए सरकारी नौकरी तथा अन्य लाभों को प्रतिबंधित करने तथा एक संतान वाले लोगों को प्रोत्साहन देने की बात कही गई है। ऐसा ही एक बिल आसाम में भी लाया जा रहा है और धीरे-धीरे कई अन्य राज्य भी इस मुद्दे पर गंभीरता से सोच रहे हैं।
यह भी पढ़ें

एक बार फिर से आमने-सामने अरविंद केजरीवाल और LG : किसानों के मामले में वकीलों का पैनल रद्द

राज्यसभा में भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने प्रस्तुत किया निजी विधेयक
भाजपा के सांसद राकेश सिन्हा ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर राज्यसभा में प्राइवेट मेंबर बिल प्रस्तुत किया है। उन्होंने बिल रखते हुए कहा कि जनसंख्या वृद्धि आर्थिक, सामाजिक और क्षेत्रीय संघर्षों का कारण बनती है। यदि हम अपने लोगों के लिए पर्याप्त संसाधन चाहते हैं तो हमें इस विषय में सोचना ही होगा। उन्होंने कहा कि सभी संसाधनों को नागरिकों के बीच समान रूप से वितरित किया जाना चाहिए और आने वाली पीढ़ियों के लिए भी बचाना चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

अमृतसर से ISI के दो जासूस गिरफ्तार, पाकिस्तान भेजते थे भारतीय सेना से जुड़ी खुफिया जानकारीहरियाणा के झज्जर में फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 3 की मौत 11 घायलभाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक : आज जयपुर आएंगे राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, एयरपोर्ट से कूकस तक 75 स्वागत द्वार तैयारBharatpur Road Accident: भीषण सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत, मचा हाहाकारLPG Price Hike Today: घरेलू गैस की कीमत 3.50 रुपए बढ़े, कमर्शियल सिलेंडर पर 8 रुपए का इजाफाIPL के इतिहास में पहली बार होगा ऐसा, इन टीमों के बिना खेला जाएगा प्लेऑफपोर्नोग्राफी मामले में व्यवसायी राज कुंद्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला दर्जज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पहला बयान, केंद्रीय मंत्री भी बोले
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.