scriptऑनलाइन बिक रहा Coronavirus से ठीक हुए मरीज का खून, कीमत 10 लाख रुपये | Blood of Coronavirus recovered patient selling at Rs. 10 Lakh per litre on Dark Net for Plasma | Patrika News
विविध भारत

ऑनलाइन बिक रहा Coronavirus से ठीक हुए मरीज का खून, कीमत 10 लाख रुपये

साइबर अपराधी डार्क वेब पर कर रहे हैं इसकी खरीद-फरोख्त।
Passive Vaccine के नाम से किया जा रहा इसे प्रमोट।
हालांकि इस खून से किसी प्रकार के फायदे का प्रमाण नहीं।

corona recovered patient blood
नई दिल्ली। दुनिया भर में खौफ का नाम बन चुके कोरोना वायरस को लेकर हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। इस जानलेवा वायरस से ठीक हो चुके मरीज का खून ऑनलाइन बेचा जा रहा है और इसकी कीमत इतनी है कि सुनकर एक बारगी किसी को यकीन नहीं होगा। ऑस्ट्रेलिया के अपराधशास्त्र संस्थान (Australian Institute of Criminology) ने यह खुलासा करते हुए बताया है कि कोरोना रिकवर्ड मरीजों का खून दौलतमंद इसलिए खरीद रहे हैं ताकि उनके शरीर में इसकी प्रतिरोधक क्षमता ( Immunity ) पैदा हो सके।
इंस्टीट्यूट के मुताबिक डार्क नेट पर कोरोना वायरस से ठीक हो चुके मरीजों का खून की खरीद-फरोख्त हो रही है। दौलतमंद लोग कोरोना वायरस से बचने के लिए इसे खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। साइबर अपराधी इस बात का फायदा उठा रहे हैं।
दुनियाभर के साइबर अपराधियों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला इंटरनेट का वह स्याह हिस्सा डार्क नेट कहलाता है, जिस पर कोई भी यूजर या गूगल भी यों ही नहीं पहुंच सकता। यहां अवैध चीजों की जमकर बिक्री होती है। कोरोना वायरस जैसी महामारी के वक्त में लोग इससे बचने के लिए उपलब्ध विकल्प तलाश रहे हैं।
डार्क वेब
इसमे कोरोना वायरस के संक्रमण से स्वस्थ हो चुके व्यक्ति का खून काफी ज्यादा डिमांड में है। डार्क नेट पर इसकी कीमत करीब 10 लाख रुपये प्रति लीटर रखी गई है। यह खून 25 मिलीलीटर से लेकर 1 लीटर तक की मात्रा में बेचा जा रहा है।
Passive Vaccine के नाम से प्रमोट किए जा रहे इस खून को साइबर क्रिमिनल्स अवैध ढंग से खरीदकर डार्क नेट पर बेच रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के अपराधशास्त्र संस्थान द्वारा किए गए इस खुलासे के बाद वहां के राष्ट्रीय विश्वविद्यालय ने इस पर शोध भी किया।
इस शोध का नेतृत्व करने वाली रॉड ब्रॉडहर्स्ट के मुताबिक फिलहाल इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिला है कि प्लाज्मा थेरेपी से किसी भी व्यक्ति में कोराना संक्रमण का खतरा कम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि Passive Vaccine उसे कहते है, जब संक्रमित व्यक्ति के स्वस्थ्य हो जाने के बाद उसके शरीर से रक्त का प्लाज्मा लेकर उस व्यक्ति के शरीर में डाला जाता है, जो इस संक्रमण से बचा हुआ है।
COVID-19: प्लाज्मा थेरेपी के जरिए होगा कोरोना रोगियों का
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक प्लाज्मा थेरेपी में खून का इस्तेमाल किया जाता है। इसकी वजह यह होती है कि किसी भी वायरस के शरीर पर हमला करने पर शरीर का प्रतिरोधी तंत्र ( Immune System ) उससे लड़ता है और इस दौरान उस वायरस के खिलाफ एक विशेष प्रकार की एंडीबॉडी विकसित करता है।
एंटीबॉडी एक प्रकार की प्रोटीन है और शरीर से इसका संक्रमण खत्म होने के बाद भी भविष्य में उससे निपटने के लिए मौजूद रहती है। ताकि दोबारा उस वायरस के शरीर पर हुए हमले को रोका जा सके और शरीर की रक्षा की जा सके।
कोरोना वायरस के मामले में भी वैज्ञानिकों की यही राय थी कि एक बार संक्रमित हो जाने के बाद मरीज पर दोबारा यह असरदार नहीं होगा। हालांकि इसे लेकर अभी तक कोई पुख्ता प्रमाण सामने नहीं आया है।

Hindi News/ Miscellenous India / ऑनलाइन बिक रहा Coronavirus से ठीक हुए मरीज का खून, कीमत 10 लाख रुपये

ट्रेंडिंग वीडियो