कोरोना से बचने के लिए हर वर्ष लेनी होगी वैक्सीन!

फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बोर्ला ने एक अमरीकी टीवी चैनल को दिए गए इंटरव्यू में कहा कि जीवन भर कोरोना से सुरक्षित रहने के लिए हमें हर वर्ष वैक्सीन की डोज लेनी पड़ सकती है।

नई दिल्ली। पूरे विश्व में कोरोना के बढ़ते कहर के बीच विभिन्न देशों की सरकारें ज्यादा से ज्यादा नागरिकों के टीकाकरण पर जोर दे रही हैं। कहा जा रहा है कि इन वैक्सीन्स की दो डोज पर्याप्त रहेंगी और उनके असर से व्यक्ति पर कोरोना का असर नहीं होगा। परन्तु अब फाइजर कंपनी ने कहा है कि वैक्सीन केवल दो बार ही नहीं लगवानी होगी वरन तीसरी बूस्टर डोज की भी जरूरत होगी और इसे दूसरी डोज लेने के छह महीने से 12 महीने के अंदर लगवाना होगा। यही नहीं, कंपनी के अनुसार हर वर्ष कोरोना वैक्सीन लगवानी होगी तभी इनका असर बना रहेगा।

यह भी देखें : Corona : पीएम मोदी ने देश में मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने के दिशा-निर्देश दिए

फिलहाल सभी लोगों को वैक्सीन की दो डोज ही दी जा रही हैं
फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बोर्ला ने एक अमरीकी टीवी चैनल को दिए गए इंटरव्यू में कहा कि जीवन भर कोरोना से सुरक्षित रहने के लिए हमें हर वर्ष वैक्सीन की डोज लेनी पड़ सकती है। उल्लेखनीय है कि अभी पूरे विश्व में जिन वैक्सीन्स को प्रयोग में लिया जा रहा है, उन सभी की दो डोज दी जा रही हैं। किसी भी कंपनी ने तीसरे डोज या बूस्टर डोज की बात अभी तक नहीं कही है। जबकि अल्बर्ट बोर्ला ने वायरस के बढ़ते म्यूटेशन्स तथा नए वेरिएंट्स को देखते हुए तीसरे डोज देने की बात कही है। उनके अनुसार बूस्टर डोज से कोरोना वायरस के नए वैरिएंट्स से बचाव होगा तथा लोगों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।

यह भी देखें : महाराष्ट्र: मुंबई के जसलोक अस्पताल में अब सिर्फ कोरोना मरीजों का होगा इलाज

फाइजर ने ऐसा पहली बार नहीं कहा है। इस वर्ष की शुरुआत में ही फाइजर और बायोएनटेक ने कहा था वे वैक्सीन की तीसरी डोज की टेस्टिंग कर रही है। हालांकि उस वक्त यह नहीं बताया गया था कि तीसरा डोज कब लेना होगा। भारत में भी फाइजर की वैक्सीन के तीसरे डोज के क्लीनिकल ट्रायल की शुरुआत हो चुकी है।

Corona virus
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned