नवंबर-दिसंबर में ही कोरोना ने भारत में दर्ज करवा दी थी मौजूदगी, शीर्ष वैज्ञानिकों ने जताई आशंका

  • India में November December महीने में ही पहुंच गया था कोरोनावायरस
  • हैदराबाद के center for cellular and molecular biology के Scientist का अनुमान
  • वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना का एक और नया रूप जो तेजी से भारत में फैल रहा

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस ( coronavirus ) को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। वैज्ञानिकों ( Scientist )का अनुमान है कि 2019 के नवंबर-दिसंबर में ही कोरोना भारत ( Bharat ) पहुंच गया था। हालांकि देश में कोरोना वायरस का पहला केस 30 जनवरी को केरल ( Kerala ) में सामने आया था।

दरअसल हैदराबाद ( Hydrabad ) स्थित सेंटर फॉर सेलुलर ऐंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी ( CCMB ) के वैज्ञानिकों का अनुमान है कि कोरोना वायरस का जो स्ट्रेन फैल रहा है उसके 26 नवंबर या 25 दिसंबर के बीच का होना चाहिए।

देश के प्रमुख अनुसंधान संस्थानों के शीर्ष वैज्ञानिकों ( Senior Scientist ) ने अनुमान लगाया है कि वुहान से निकला कोरोना वायरस स्ट्रेन के पहले वाले रूप का 11 दिसंबर तक प्रसार हो रहा था।

दरअसल वैज्ञानिकों ने टाइम टु मोस्ट रिसेंट कॉमन एन्सेस्टर (MRCA) नाम की तकनीक के जरिये ये अनुमान लगाया है कि मौजूदा समय में तेलंगाना ( Telangana ) समेत अन्य राज्यों में कोरोना वायरस की जो उत्तपत्ति हुई है वह 26 नवंबर और 25 दिसंबर के बीच में हुई है और इसकी औसत तारीख 11 दिसंबर है।

हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि क्या 30 जनवरी से पहले चीन से यात्रा करने वालों से कोरोना वायरस भारत पहुंच गया था। क्योंकि उस दौरान देश में कोरोना की जांच बड़े स्तर पर नहीं हो रही थी।

दिन दहाड़े हत्याकांड से दहली दिल्ली, पार्क में टहल रहे पार्षद का चुनाव लड़ चुके शख्स गोलियों से भूना

ma.jpg

इस बीच हैदराबाद के सेंटर फॉर सेलुलर ऐंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCMB) ने भारत में कोरोना वायरस के दस्तक के समय का ही अनुमान नहीं लगाया है, बल्कि एक और बड़ा खुलासा किया है। दरअसल सीसीएमबी ने चीन के वुहान से आए स्ट्रेन के अलावा एक और स्ट्रेन या क्लेड खोजा है। ये स्ट्रेन अलग ही तरह का कोरोना वायरस है।

इस स्ट्रेन की खोज के बाद यह भी कहा जा रहा है कि देश में एक अलग ही तरह का कोरोना वायरस फैला हुआ है। हालांकि वैज्ञानिकों ने कोरोना के नए स्ट्रेन को क्लेड I/A3i नाम दिया है।

कोरोना के दो अलग-अलग रूप
उधर...सीसीएमबी के डायरेक्टर राकेश मिश्रा ने बताया है कि केरल से सामने आए पहले कोरोना केस में जो स्ट्रेन मिला था और हैदराबाद से जो कोरोना का स्ट्रेन मिला है दोनों में अंतर है। केरल वाले स्ट्रेन के वुहान से आने की पुष्टि होती है लेकिन हैदराबाद वाला स्ट्रेन किसी दक्षिण पूर्वी एशियाई देश का लग रहा है।

इन राज्यों में फैल रहा कोरोना का नया रूप
वैज्ञानिकों के मुताबिक कोरोना का नया स्ट्रेन इस वक्त दिल्ली, महाराष्ट्र, तेलंगाना और तमिलनाडु में बड़े पैमाने पर फैल रहा है। इसके अलावा गुजरात, केरल, प.बंगाल, कर्नाटक में भी कोरोना के नए रूप का असर दिखाई दे रहा है।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned