इन राज्यों में Corona के नए मामलों ने बढ़ाई सरकार की चिंता, फिर लग सकता है लॉकडाउन

  • महाराष्ट्र और दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोना के नए मामले
  • रोजाना बढ़ रहे मामलों में रूस, ब्रिटेन से भी आगे महाराष्ट्र
  • देश में 70 फीसदी नए केस सिर्फ महाराष्ट्र से

नई दिल्ली। देशभर में चल रहे कोरोना वैक्सीनेशन के अभियान के बीच एक बार फिर कोविड-19 के नए मामलों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। महाराष्ट्र से लेकर राजधानी दिल्ली तक कई इलाकों में तेजी से बड़ी संख्या में नए केस सामने आ रहे हैं।

एक बार फिर से महाराष्ट्र कोरोना की रडार पर है और यहां मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। दिल्ली में भी कोरोना की रफ्तार तेज होती दिखाई दे रही है। दिल्ली में जहां एक दिन में 400 से अधिक कोरोना के केस सामने आए, वहीं महाराष्ट्र में यह आंकड़ा 14 हजार पार कर गया। देश में 2021 में पहली बार एक दिन में 23 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं।

यह भी पढ़ेंः Alert: महाराष्ट्र में कोरोना के एक लाख से अधिक सक्रिय केस, देखें वीडियो

देश में 70 फीसदी नए केस सिर्फ महाराष्ट्र से
पिछले 24 घंटे में कोरोना के 20 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले हैं। इनमें 70 फीसदी मरीज अकेले महाराष्ट्र में मिले हैं। बीते दिन कोरोना से 123 लोगों की जान गई, जबकि 17 हजार मरीज रिकवर होकर घर लौटे।

महाराष्ट्र की बता करें तो पिछले 24 घंटों में यहां 13,659 नए केस सामने आए हैं। यह संख्या कोरोना से प्रभावित टॉप-10 देशों में शामिल रूस, ब्रिटेन, स्पेन और जर्मनी में मिले नए केस से भी ज्यादा है। जर्मनी में 10 मार्च को 12,246, रूस में 9,079, ब्रिटेन में 5,926 और स्पेन में 6,672 मरीज मिले, ऐसे में महाराष्ट्र इनसे आगे आगे रहा।

यहां लॉकडाउन का एलान
नागपुर में कोरोना लॉकडाउन का एलान कर दिया गया है, मगर जिस तरह से मामले बढ़ रहे हैं, ऐसी आशंका जताई जा रही है कि ऐसे प्रतिबंध अन्य कई जगहों पर लग सकते हैं।

ठाणे में भी करीब 16 हॉटस्पॉट में 31 मार्च तक लॉकडाउन लगा दिया गया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी संकेत दिए हैं कि अगर कोरोना की रफ्तार ऐसी ही बेकाबू रही तो फिर अन्य जगहों पर भी लॉकडाउन लगाए जा सकते हैं।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना वायरस के 14,317 मरीज मिले, जो इस साल एक दिन में सबसे ज्यादा हैं। इसके बाद कुल मामले 22,66,374 पहुंच गए हैं।

फिर मंडराया खतरा

राज्य में कोरोना से मृतकों की संख्या 52,667 पहुंच गई है। बीते साल सात अक्टूबर को एक दिन में 14,578 नए मामले रिपोर्ट हुए थे। 14 फरवरी से महाराष्ट्र में कोरोना के लगातार मामले बढ़ रहे हैं। यही वजह है कि एक बार फिर लॉकडाउन का खतरा मंडरा रहा है।

राजधानी में भी बढ़ रहा खतरा
दिल्ली की बात करें तो यहां रोजाना संक्रमितों के बढ़ने का सिलसिला लगातार जारी है। बीते दिन दिल्ली में कोरोना के 400 से अधिक नए मरीज मिले। इसके बाद यहां संक्रमितों का कुल आंकड़ा 6.42 लाख के पार पहुंच गया है। इसके साथ ही पॉजिटिविटी दर भी बढ़कर 0.59 फीसदी पर आ गई है।

यह भी पढ़ेंः नमक सत्याग्रहः महात्मा गांधी को क्यों करना पड़ा था 'दांडी मार्च'

600 पार कंटेनमेंट जोन
दिल्ली में बढ़ते मामलों के बीच कंटेनमेंट जोन की संख्या भी फिर से बढ़कर 600 के पास पहुंच गई है। दिल्ली में गुरुवार को 409 नए लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इससे पहले 8 जनवरी को दिल्ली में 444 मामले आए थे।

दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक गुरुवार को कोरोना मुक्त होने के बाद 286 मरीजों को छुट्टी दी गई, जबकि तीन मरीजों ने कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। दिल्ली में कोरोना के ‌कुल मरीज 6,42,439 हो गए हैं। इनमें से 6,29,485 मरीज कोरोना से ठीक हो चुके हैं। वहीं, अब तक 10,934 मरीजों ने कोरोना के कारण जान गंवाई है।

Coronavirus in india
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned