WHO में भारत को मिली बड़ी जिम्मेदारी, डॉ. हर्षवर्धन ने संभाली कार्यकारी बोर्ड की कमान

  • Dr. Harsh vardhan ने WHO के कार्यकारी बोर्ड के चेयमैन के तौर पर पदभार संभाल लिया
  • Harsh vardhan जापान के डॉ. हिरोकी नकटानी के उत्तराधिकारी के रूप में कार्यभार संभाला

नई दिल्ली। भारत जिस तरह से कोरोना वायरस ( coronavirus ) संकट से निपट रहा है, उसकी दुनियाभर में सराहना की जा रही है।

यही वजह है कि अब भारत को अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं ( International institutions ) ने भी अपने उच्च पदों की जिम्मेदारी देनी शुरू कर दी है।

ताजा जानकारी के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ( Union Health Minister Dr Harsh Vardhan ) ने शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) के कार्यकारी (Executive) बोर्ड के चेयमैन के तौर पर पदभार संभाल लिया है।

चूंकि कोरोना संकट के समय ऐतिहासिक तौर पर स्वास्थ्य निकाय की साख गिरी है और इसकी आलोचना भी हो रही है, तो इस समय भारत के पास इसके नेतृत्व शून्यता को भरने का बेहतरीन मौका है।

इससे WHO में भारत का कद भी बढ़ने जा रहा है। डॉ. हर्षवर्धन ( Dr Harsh Vardhan ) जापान के डॉ. हिरोकी नकटानी के उत्तराधिकारी के रूप में कार्यभार संभाला है।

खुलासा: नायकू के बदले की फिराक में हिजबुल मुजाहिदीन, कश्मीर में बड़े हमले की रच रहा साजिश

दुनिया भर में कोरोना वायरस महामारी के बीच भारत के स्वास्थ्य मंत्री को यह जिम्मेदारी मिलना काफी महत्व रखता है।

इस महत्वपूर्ण कार्यकारी बोर्ड में 34 सदस्य हैं, जो तकनीकी रूप से योग्य हैं और अपने देशों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

इन सभी 34 सदस्यों को विश्व स्वास्थ्य सभा में उनके संबंधित देशों द्वारा नामित किया गया है।

इससे संबंधित हाल ही में आयोजित कार्यक्रम में हर्षवर्धन ने कोरोना पर भारत की प्रतिक्रिया के बारे में एक लंबा भाषण दिया था और बताया था कि कैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया को अपना नेतृत्व दिखाया है।

कोरोना वायरस को लेकर महाराष्ट्र से अच्छी खबर, मरीजों के रिकवरी रेट में बड़ा सुधार

c.png

भारत को डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी बोर्ड में शामिल करने के प्रस्ताव पर 194 देशों ने हस्ताक्षर किए हैं। यह एकदम से लिया गया फैसला नहीं है।

पिछले साल डब्ल्यूएचओ के दक्षिण पूर्व एशिया समूह ने फैसला किया था कि भारत 2020 से तीन साल के लिए कार्यकारी बोर्ड के लिए चुना जाएगा।

कोरोना संकट के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की फंडिंग स्थायी तौर पर रोक दी जाएगी, अगर वह 30 दिनों के भीतर ठोस सुधार करने में विफल रहता है।

COVID-19: मोदी सरकार की नई गाइडलाइंस से नाराज Corona warriors, काली पट्टी बांधकर किया विरोध

aa.png

ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख डॉ. ट्रेडोस ऐडनम को चार पन्नों की चिट्ठी लिखी है। ट्रंप ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस चिट्ठी को साझा किया है।

डोनाल्ड ट्रंप ने स्वास्थ्य की वैश्विक संस्था पर चीन का साथ देने का आरोप लगाया है।

ट्रंप ने अपने पत्र में लिखा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उन विश्वसनीय रिपोर्ट की स्वतंत्रता से जांच नहीं की और न ही उनकी जांच की जो खुद वुहान शहर से स्रोत के तौर पर आई थी।

COVID-19: दिल्ली में कोरोना का तांडव, मंडोली जेल डिप्टी सुपरिटेंडेंट मिले कोरोना पॉजिटिव

aaa.png

ट्रंप ने आगे लिखा कि दिसंबर की शुरूआत में वायरस के फैलने के दौरान जो रिपोर्ट सामने आई थीं उनकी अनदेखी की गई। अंत में उन्होंने लिखा कि डब्ल्यूएचओ के पास एकमात्र रास्ता यह है कि वह चीन से पृथक होकर काम करे।

कोरोना वायरस
Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned