इंफोर्समेंट डायरेक्ट्रेट ने महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री देश्मुख के खिलाफ केस दर्ज किया

सीबीआई द्वारा 24 अप्रैल को कार्यालय के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार के आरोपों में सीबीआई द्वारा केस दर्ज किए जाने के लगभग एक पखवाड़े बाद ईडी की कार्रवाई सामने आई है। सीबीआई ने 6 अप्रैल को बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा एजेंसी से रिश्वत और कार्यालय के दुरुपयोग के आरोपों की जांच करने के लिए कहा।

मुंबई। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अनिल देशमुख के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार और कार्यालय मामले के दुरुपयोग के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया है। जांच से जुड़े प्रवर्तन निदेशालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, देशमुख के खिलाफ पीएमएलए के तहत मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ेंः- नागालैंड में पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा 14 मई से होगा लागू, इनको मिल सकती है छूट

सीबीआई द्वारा 24 अप्रैल को कार्यालय के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार के आरोपों में सीबीआई द्वारा केस दर्ज किए जाने के लगभग एक पखवाड़े बाद ईडी की कार्रवाई सामने आई है। सीबीआई ने 6 अप्रैल को बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा एजेंसी से रिश्वत और कार्यालय के दुरुपयोग के आरोपों की जांच करने के लिए कहा। फैसले के तुरंत बाद, देशमुख अपने पद से हट गए थे। सीबीआई ने देशमुख से जुड़े परिसरों में तलाशी ली और पहले भी उनका बयान दर्ज किया था।

यह भी पढ़ेंः- Pappu Yadav Vs RP Rudy : सांसद राजीव प्रताप रूडी से दौलत के मामले में कम नहीं है पप्पू यादव

परमबीर सिंह ने आरोप लगाया था कि अनिल देशमुख ने निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वेज़ को हर महीने 100 करोड़ रुपये इक_ा करने के लिए कहा था, जिसमें मुंबई में बार और रेस्तरां से 40-50 करोड़ रुपये शामिल थे। इस 100 करोड़ में से 40 से 45 करोड़ रुपये कथित रूप से होटल, बार और रेस्तरां से निकाले जाने थे। यह 20 मार्च को मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र में सामने आया।

यह भी पढ़ेंः- Eid al-Fitr से पहले मुस्लिम धर्मगुरुओं की लोगों से अपील, घरों में रहकर मनाए ईद

अपने पत्र में, परमबीर सिंह ने ठाकरे को लिखा था कि देशमुख के गृह मंत्री होने के नाते वाजे और पाटिल को मुंबई में एक महीने में 100 करोड़ रुपए एकत्र करने का निर्देश दिया। सिंह को इसके बारे में वाजे और पाटिल द्वारा सूचित किया गया था। जिसके बाद इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली गई और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इस मामले में बांबे हाईकोर्ट में लाया गया।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned