कोरोना के टीके के बारे में आम जनता को सरल भाषा में समझाएं : मोदी

Highlights.

- प्रधानमंत्री ने कोरोना वैक्सीन की तैयारियों को लेकर दो दिन पहले तीन कंपनियों का दौरा किया था

- तीन अन्य कंपनियों जिनोवा बायोफार्मा, बायोलॉजिकल-ई लिमिटेड और डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज की टीमों से चर्चा की

- मोदी ने कंपनियों को कानूनी प्रक्रिया व इससे जुड़े मामलों के बारे में सुझाव के साथ आगे आने के लिए कहा

 

नई दिल्ली.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना की वैक्सीन की तैयारियों को लेकर दो दिन पहले तीन कंपनियों का दौरा किया। उन्होंने सोमवार को तीन अन्य कंपनियों जिनोवा बायोफार्मा, बायोलॉजिकल-ई लिमिटेड और डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज की टीमों से चर्चा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कंपनियों को कानूनी प्रक्रिया व इससे जुड़े मामलों के बारे में सुझाव के साथ आगे आने के लिए कहा। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि वे टीका और इसके असर के बारे में आम जनता को सरल भाषा में बताने का प्रयास करें।

जिनोवा बायोफार्मा: मार्च तक आने की उम्मीद

पुणे स्थित जिनोवा बायोफार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड मैसेंजर आरएनए के जरिए वैक्सीन बना रही है। मार्च तक वैक्सीन आने की उम्मीद है। अभी ह्यूमन ट्रायल शुरू नहीं हुआ है।

बीईएल: मानव परीक्षण शुरू

अमरीका स्थित बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन ने सस्ते, सुरक्षित व प्रभावी टीके के लिए भारतीय कंपनी बायोलॉजिकल-ई लिमिटेड से समझौता किया था। टीका पहले व दूसरे चरण के परीक्षण में है।

डॉ. रेड्डीज: मार्च तक परीक्षण पूरा होगा

रूस ने अगस्त में दुनिया की पहली वै सीन स्पुतनिक-वी को मंजूरी देकर चौंका दिया था। हाल ही डॉ. रेड्डीज को स्पुतनिक-वी के ह्यूमन ट्रायल की अनुमति के बाद पहली खेप भारत में आ गई। मार्च तक परीक्षण पूरा होगा

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned