बच्चों की Online पढ़ाई के लिए चाहिए था Smart Phone, बेबस पिता ने बेच दी अपनी गाय

  • बच्चों की Online Study के लिए पिता को खरीदना था Smart Phone
  • किसी ने भी नहीं की मदद, आर्थिक तंगी के चलते बेचना पड़ी अपनी गाय
  • बच्चों का भविष्य संवारने के लिए पिता अपनी आमदनी का इकलौता जरिया भी बेच दिया

नई दिल्ली। देशभर में बढ़ रहे कोरोना वायरस संकट ( coronavirus ) के बीच अब जहां वर्क फ्रॉम होम ( Work From Home ) का कल्चर बढ़रहा है वहीं बच्चों की पढ़ाई भी ऑनलाइन ( Online Study ) ही हो रही है। संक्रमण से बचाव के लिए स्कूल अब भी बंद हैं। ऐसे में बच्चों को घर बैठे ही पढ़ाया जा रहा है। लेकिन इस ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर कई परिवारों में परेशानी भी आ गई है। खास तौर पर आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए मोबाइल या कम्प्यूटर के जरिए पढ़ाई इतनी आसान नहीं है।

लेकिन जब बात बच्चों के भविष्य की आती है तो मां-बाप हर मुश्किल को आसान बनाने की कोशिश में जुट जाते हैं। कुछ ऐसा ही किया है एक पिता ने, जिसने बच्चों की पढ़ाई के लिए अपनी गाय बेच दी।

कोरोना संकट के बीच एम्स की 400 नर्सों ने की हड़ताल, मरीजों का हुआ बुरा हाल

lk.jpg

कोरोना संकट के बीच सरकार सख्त, मास्क ना पहनने पर देना होगा 1 लाख रुपए का जुर्माना, दो साल की जेल के साथ पास हुआ अध्यादेश

बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए स्मार्टफोन की जरूरत थी। लिहाजा पिता ने स्मार्टफोन खरीदने के लिए अपनी गाय बेच दीं। गाय इस परिवार के आय का इकलौता माध्यम थी ये जानते हुए भी पिता ने सिर्फ 6 हजार रुपए में अपनी गाय को बेच दिया ताकि बच्चे ऑनलाइन पढ़ सकें और अपना भविष्य बना सकें।

मामला हिमाचल प्रदेश के पालमपुर जिले के ज्वालामुखी इलाके का है। जहां के निवासी कुलदीप कुमार ने बच्चों के लिए बड़ा कदम उठाया।

दरअसल मार्च से लगे लॉकडाउन के बाद से स्कूल बंद हैं। कुलदीप के बच्चे तब से घर पर ही हैं। उसके बच्चे अन्नू और दीपू क्लास 4 और क्लास 2 में पढ़ते हैं।

जैसे ही स्कूल में ऑनलाइन क्लास शुरू हुई बच्चों ने पिता से स्मार्ट फोन खरीदने की बात कही। लगातार दबाव बढ़ने पर कुलदीप बच्चों के भविष्य के लिए हर मुमकिन कोशिश करता रहा।

एक महीने तक कुलदीप लोगों से 6000 रुपए उधारी मांगता रहा लेकिन उसकी मदद किसी ने नहीं की। वह बैंक गया और कई निजी ऋणदाताओं के पास भी गया, लेकिन उसकी गरीबी देखते हुए उसे किसी ने 6 हजार रुपए का लोन नहीं मिला।

उधर..स्कूल से टीचर्स ने कहा कि अगर बच्चों की पढ़ाई जारी रखनी है तो स्मार्टफोन खरीद कर लो। आखिरकार जब कुलदीप को कहीं से मदद नहीं मिली तो अपनी गाय 6000 रुपए में बेच दी। उन पैसों से वह बच्चों के लिए स्मार्टफोन लेकर आया, ताकि बच्चों की पढ़ाई जारी रह सके।

coronavirus
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned