यूएन महासचिव पद की दावेदारी में शामिल भारतवंशी आकांक्षा, गुटेरस को देंगी चुनौती

Highlights

  • अभी यूनाइटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम (UNDP) में ऑडिट कोआर्डिनेटर की भूमिका में हैं।
  • भारत का ओवरसीज सिटीजन शिप कार्ड और कनाडा का पासपोर्ट है।

नई दिल्ली। हरियाणा में जन्मी और अब अमरीका में रह रहीं आकांक्षा अरोरा संयुक्त राष्ट्र महासचिव पद की दावेदारी में शामिल हो गई हैं। वे अब यूएन महासचिव एंटोनियो गुतेरस को चुनौती देने वाली हैं। 34 वर्ष की आकांक्षा अभी यूनाइटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम (UNDP) में ऑडिट कोआर्डिनेटर की भूमिका में हैं।

दिल्ली सरकार के सभी विभाग छह माह के अंदर इलेक्ट्रिक वाहनों का करेंगे इस्तेमाल

आकांक्षा जब छह वर्ष की ही थीं तब उनका परिवार सऊदी अरब चला गया था। इसके बाद उन्होंने कनाडा के टोरंटो में योर्क यूनिवर्सिटी से स्नातक डिग्री ली। आकांक्षा ने बाद में कोलंबिया यूनिवर्सिटी से मास्टर डिग्री भी हासिल की। आकांक्षा के पास भारत का ओवरसीज सिटीजन शिप कार्ड (ओसीआई)और कनाडा का पासपोर्ट है।

हालांकि अब तक इस बात का कोई अनुमान नहीं है कि अमरीका या अन्य देशों से उन्हें समर्थन मिलेगा या नहीं। ये अभी तक तय नहीं हो सका है। उन्होंने अभी तक भी किसी देश से समर्थन नहीं मांगा है।

दावेदारी को लेकर जमीनी अभियान

आकांक्षा ने यूएन महासचिव पद के लिए दावेदारी को लेकर जमीनी अभियान व सोशल मीडिया में कैंपेन शुरू कर दिया है। ट्विटर पर इसे 'यूएनओडब्ल्यू' का नाम दिया गया है। आकांक्षा ने इसके साथ ही प्रतिद्वंद्वी गुतरेस पर जुबानी हमले शुरू कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि गुतेरस इस विश्व संस्थान में सुधार लाने में विफल रहे हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned