Indian Railways: यात्री ध्यान दें! 109 रूटों पर दौड़ेंगी 150 प्राइवेट ट्रेनें, ये होगी खासियतें

-Indian Railways: देशभर में प्राइवेट ट्रेनों ( Private Trains ) का संचालन शुरू करने के लिए रेलवे ( IRCTC ) पूरी तैयारी में है।
-रेलवे ने कहा है कि देश में 109 रूटों पर 150 निजी ट्रेनें चलाई जाएंगी।
-इन ट्रेनों की जिम्मेदारी निजी संचालकों की होगी और उन्हें ही खुद स्टेशनों के चुनने की आजादी होगी।
-इससे संचालक खुद तय करेंगे कि ट्रेन किसी स्टेशन ( Station ) पर रुकेगी और किसी पर नहीं।

नई दिल्ली।
Indian Railways: देशभर में प्राइवेट ट्रेनों ( Private Trains ) का संचालन शुरू करने के लिए रेलवे ( IRCTC ) पूरी तैयारी में है। रेलवे ने कहा है कि देश में 109 रूटों पर 150 निजी ट्रेनें चलाई जाएंगी। इन ट्रेनों की जिम्मेदारी निजी संचालकों की होगी और उन्हें ही खुद स्टेशनों के चुनने की आजादी होगी। इससे संचालक खुद तय करेंगे कि ट्रेन किसी स्टेशन ( Station ) पर रुकेगी और किसी पर नहीं।

हालांकि, संचालकों को पहले रेलवे को उन स्टेशनों की सूची रेलवे को मुहैया करानी होगी, जहां पर ट्रेन रुकेगी। साथ ही उन्हें टाइम इन और आउट की भी जानकारी देनी होगी। बता दें कि इसके लिए प्राइवेट कंपनियों से आवेदन मांगे हैं। इसके तहत प्राइवेट ट्रेनों को 109 रूटों पर चलाया जा सकता है। इसके लिए प्राइवेट कंपनियों को 30 हजार करोड़ रुपये का निवेश करना होगा।

Indian Railways: Ganesh Chaturthi पर कहां-कहां चलेंगी 162 स्पेशल ट्रेन? जानें पूरा Time Table

रेलवे ने स्पष्ट किया है कि निजी रेलगाड़ियों को उस रूट पर मौजूदा समय में सबसे तेज गति से चल रही रेलगाड़ी के ठहराव स्टेशनों से अधिक ठहराव रखने की अनुमति नहीं होगी। रेलवे को उन स्टेशनों को भी ठहराव में शामिल करना होगा जिनकी जरूरत बोगियों में पानी भरने, सफाई करने आदि के लिए होगी।

30,000 करोड़ रुपए का निवेश
गौरतलब है कि 109 मार्गों पर कुल 150 ट्रेनों के संचालन के लिए प्राइवेट कंपनियों से आवेदन मांगे गए थे, इस प्राइवेट प्रोजेक्ट पर 30,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा। यह पहला मौका है जब पैसेंजर ट्रेन के संचालन के लिए भारतीय रेलवे ने प्राइवेट कंपनियों को आमंत्रित किया है।

Indian Railways: कोरोना काल में चल रही 230 Special Trains, ये ट्रेनें हुई कैंसिल, जानें पूरी जानकारी

180 की रफ्तार से दौड़ेगी ट्रेनें
इन ट्रेनों को डिजाइन बेहद हाइटेक होगा, इसमें सेफ्टी का पूरा ध्यान रखा जाएगा, ताकि 180 किमी/घंटे की अधिकतम रफ्तार में भी सेफ हो सके। ये ट्रेनें 140 सेकंड में 160 किमी की रफ्तार पकड़ने में सक्षम होगी। ट्रेनों में इमरजेंसी ब्रेक सिस्टम को इस तरह से तैयार किया जाएगा कि 160 किमी/घंटे की रफ्तार से यात्रा करते समय 1,250 मीटर से कम दूरी पर उन्हें रोका जा सकता है। इन ट्रेनों की उम्र 35 साल तक होनी चाहिए।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned