Indian Railways: यात्रियों के लिए अच्छी खबर, चलेंगी अतिरिक्त ट्रेनें, इन स्टेशनों पर होगा ठहराव

-Indian Railways: देश में नियमित ट्रेनों ( Regular Train ) पर अगले आदेश तक रोक लगी है।
-हालांकि, रेलवे स्पेशल ट्रेनों ( Special Trains ) का संचालन कर रहा है।
-कोरोना ( Coronavirus ) के बढ़ते संक्रमण के बावजूद यात्रियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है।
-इसे देखते हुए रेलवे ( IRCTC ) कुछ और अतिरिक्त ट्रेनें शुरू कर सकता है।

नई दिल्ली।
Indian Railways: देश में नियमित ट्रेनों ( Regular Train ) पर अगले आदेश तक रोक लगी है। हालांकि, रेलवे स्पेशल ट्रेनों ( Special Trains ) का संचालन कर रहा है। कोरोना ( Coronavirus ) के बढ़ते संक्रमण के बावजूद यात्रियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इसे देखते हुए रेलवे ( IRCTC ) कुछ और अतिरिक्त ट्रेनें शुरू कर सकता है। जानकारी के अनुसार, रेलवे जल्द ही मुंबई ( Mumbai ) के लिए कई अतिरिक्त ट्रेनें चलाएगा। बता दें कि गोमतीनगर स्टेशन ( Gomtinagar Station ) को दिसंबर तक वर्ल्ड क्लास स्टेशन बनाने का काम भी पूरा हो जाएगा। इससे मुंबई जाने वाले यात्रियों को काफी राहत मिलेगी।

इन स्टेशनों पर होगा ठहराव
रेलवे के मुताबिक, मऊ और छपरा के लिए जल्द ट्रेनें शुरू हो सकती है। इन स्टेशनों के बीच ट्रेनों का ठहराव होगा। यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रेलवे कई अन्य ट्रेनें भी नए टाइम टेबल के साथ चला सकता है। पूर्वोत्तर रेलवे डीआरएम डॉ. मोनिका अग्निहोत्री ने वर्चुअल प्रेसवार्ता के दौरान इस बात की जानकारी दी।

Indian Railways: ट्रेन कितनी लेट है और कितनी देर में आएगी? अब ISRO देगा सटीक जानकारी

डीआरएम ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान रेलवे ने पटरियों की मरम्मत का काम पूरा कर लिया है। रेलवे ने मिनी रैक चलाये हैं जो 600 किमी की दूरी तय कर रहे हैं। मल्टी प्वाइंट रैक और टू प्वाइंट लोडिंग की सुविधा दी है जो 500 किमी तक चलाये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि ऐशबाग स्टेशन पर एफओबी के साथ लिफ्ट का जुड़ाव होगा। साथ ही इसे सैटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित भी किया जाएगा। पुराने प्रवेश द्वार को बदला जाएगा। यहां वेटिंग हाल से एक सीधा रास्ता एफओबी से जुड़ेगा, जिससे यात्रियों को काफी फायदा होगा।

सैटेलाइट से जुड़ेगी ट्रेनें
भारतीय रेलवे ( IRCTC ) अपने ट्रेनों में नेशनल ट्रेन इंक्वायरी सिस्टम ( National Train Inquiry System ) को अपग्रेड कर रहा है। जिससे ट्रेनों की रियल टाइम इंफॉर्मेशन सिस्टम (आरटीईएस) की जानकारी मिल सकेगी। रेलवे के मुताबिक, ट्रेन के इंजन में एक खास डिवाइस ( GPS Device ) लगाई जाएगी, जो जीपीएस की मदद से ट्रेनों की गति पढ़कर अपडेट जारी करेगी। यह जीपीएस इसरो के सैटेलाइट ( ISRO Satellite ) से भी जुड़ा होगा, जो हर पल ट्रेनों की स्थिति की सटीक जानकारी देगा।

Indian Railways: रेलवे ने 7 सितंबर तक बदला इन ट्रेनों का रूट, देखें पूरी लिस्ट

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned