जम्मू-कश्मीर: असिया अंद्राबी को दिल्ली ले जाने के विरोध में अलगाववादियों का बंद, जनजीवन प्रभावित

जम्मू-कश्मीर: असिया अंद्राबी को दिल्ली ले जाने के विरोध में अलगाववादियों का बंद, जनजीवन प्रभावित

असिया अंद्राबी को दिल्ली ले जाने के विरोध में अलगाववादी नेताओं ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर में बंद बुलाया है। बंद की वजह से घाटी का जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है।

नई दिल्ली। भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के आरोप में अलगाववादी महिला नेता आसिया अंद्राबी को श्रीनगर से दिल्ली ले जाया गया है। इसके विरोध में अलगाववादियों द्वारा शनिवार को जम्मू-कश्मीर में बंद बुलाया गया है, जिससे जनजीवन काफी प्रभावित हुआ है। बता दें कि आसिया अंद्राबी सहित दो अन्य महिलाओं को राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने हिरास्त में लेकर दस दिन की रिमांड में भेज दिया है।

यह भी पढ़ें-अमरीका सरकार ने प्रवासी मां-बाप से अलग किए बच्चों को मिलाने के लिए मांगी और मोहलत

बंद की वजह से जनजीवन प्रभावित

बंद की वजह से श्रीनगर और घाटी के जिला मुख्यालयों में दुकानें, सार्वजनिक परिवहन और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हैं। दरअसल, आसिया अंद्राबी के दिल्ली ले जाने के विरोध में सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और यासीन मलिक के नेतृत्व में संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने शुक्रवार को बंद का आह्वान किया था। आसिया अंद्राबी के साथ गिरफ्तार की गई दो अन्य महिला हमीदा सोफी और नाहिदा नसरीन को भी राजद्रोह के मामले में श्रीनगर सेंट्रल जेल से दिल्ली ले जाया गया है।

10 दिनों तक एनआईए की हिरासत में

दिल्ली में पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी के बाद तीनों को 16 जुलाई तक 10 दिनों के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं, अलगाववादी नेता गिलानी और मीरवाइज उमर को घर में नजरबंद कर दिया गया जबकि मलिक को निवारक हिरासत में लिया गया है।

यह भी पढ़े़ं-नवाज शरीफ ने की घोषणा, मैं जल्द आ रहा हूं पाकिस्तान

आसिया पर क्या है आरोप

एनआइए ने पटियाल कोर्ट को बाताया कि आसिया कश्मीर में अलगाववाद को काफी बढ़ावा दे रही थी। वहीं, संगठन दुख्तरान-ए-मिल्लत के सदस्यों के पास से मिले मोबाइल फोनों की जांच में सामने आया है कि वे पाकिस्तान के अपने आकाओं के लगातार संपर्क में थे। साथ वे भारत विरोधी गतिविधियों में भी शामिल है। एनआइए ने आसिया अंद्राबी, सोफी फहमीदा और नहीदा नसरीन पर देश के खिलाफ कथित तौर पर जंग छेड़ने का आरोप भी लगाया है।

Ad Block is Banned