नागरिकता कानून के खिलाफ केरल विधानसभा में प्रस्ताव पास, भाजपा ने किया विरोध

  • कांग्रेस ने सीएम विजयन के प्रस्ताव का समर्थन किया
  • सीएम विजयन बोले- धर्मनिरपेक्षता, यूनानियों, रोमन, अरबों का एक लंबा इतिहास
  • केरल में एक भी डिटेंशन सेंटर नहीं-सीएम विजयन

kerala cm pinarayi vijayan assembly

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है। कानून के खिलाफ कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हो रहा है। वहीं केरल विधानसभा में मंगलवार को इस कानून को वापस लेने के लिए प्रस्ताव रखा गया। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (kerala cm pinarayi vijayan) ने विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया। सदन में यह प्रस्ताव पास हो गया।

 

इस दौरान सीएम विजयन ने कहा कि केरल में केरल में धर्मनिरपेक्षता का एक लंबा इतिहास रहा है। उन्होंने कहा कि धर्मनिरपेक्षता, यूनानियों, रोमन, अरबों का एक लंबा इतिहास है। ये सभी हमारी धरती पर पहुंचे हैं। हमारी परंपरा समावेशिता की है। विधानसभा को परंपरा को जीवित रखने की जरूरत है।

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम बने अजित पवार, मंत्री नहीं बनने से कुछ विधायक नाराज

कांग्रेस ने प्रस्ताव का किया समर्थन

मुख्यमंत्री ने डिटेंशन सेंटर को लेकर भी बयान दिया। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि केरल में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं बनेगा।

मुख्यमंत्री विजयन की ओर से रखे गए प्रस्ताव का कांग्रेस ने जहां समर्थन किया वहीं भाजपा ने इस प्रस्ताव का विरोध करते हुए निंदा की। भाजपा विधायक ओ राजगोपाल ने प्रस्ताव का विरोध करते हुए कहा कि इस कानून में कहीं से किसी धर्म को अलग-थलग करने की चर्चा नहीं है। सिर्फ वोटबैंक के लिए अफवाह उड़ाया जा रहा है न कि संविधान की रक्षा के लिए।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned