M. Venkaiah Naidu बोले : कोरोना काल में छात्रों के भविष्य को संवारने में जुटे शिक्षकों को दें धन्यवाद

  • M. Venkaiah Naidu ने ट्विट कर शिक्षकों के त्याग, बहादुरी और उनकी स्वार्थरहित सेवा को सलाम किया।
  • बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि एजुकेशन से ज्ञान और टीचर से सभी को मार्गदर्शन प्राप्त होता है।

नई दिल्ली। भारत के उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ( M. Venkaiah Naidu ) ने टीचर्स डे पर देशभर के शिक्षकों को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस संकट के दौर में स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शिक्षण संस्थानों में छात्रों के भविष्य को बेहतर बनाने में जुटे शिक्षकों को आज धन्यवाद देने का दिन है। इसलिए सभी लोग अपने जीवन में शिक्षकों के अमूल्य योगदान के लिए उनका आभार जरूर जताएं।

सभी शिक्षकों का अभिनंदन

एम. वेंकैया नायडू की ओर से उपराष्ट्रपति कार्यालय के एक ट्विट में बताया गया है कि टीचर्स दिवस के अवसर पर सभी शिक्षकों का अभिनंदन। पांच सितंबर के दिन सभी लोग मिलकर उन शिक्षकों का आभार जताएं जो कोरोना वायरस महामारी के दौरान छात्रों के भविष्य को संवारने में जुटे हुए हैं।

टीचर्स डे पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ( M. Venkaiah Naidu ) ने शिक्षकों के त्याग, बहादुरी और उनकी स्वार्थरहित सेवा को सलाम किया हैै। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. एस राधाकृष्णन महान दार्शनिक, राजनेता और लेखक थे। उनका आदर्श सभी के लिए अनुकरणीय है। उन्हीं के जन्म दिन को 1962 से शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।

Narendra Modi ने एस राधाकृष्णन को दी श्रद्धांजलि, राष्ट्र निर्माण में योगदान के लिए शिक्षकों का जताया आभार

शिक्षक दिवस पर नड्डा ने भी दी शुभकामनाएं

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा ने भी भी शिक्षक दिवस की बधाई देते हुए कहा है कि राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों का योगदान अहम होता हैं। शिक्षकों का योगदान हमेशा देश का मार्गदर्शन करता रहेगा।

जेपी नड्डा ने ट्विट कर कहा कि पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती पर मनाए जाने वाले 'शिक्षक दिवस' की सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं। उन्होंने कहा कि एजुकेशन से ज्ञान और टीचर से सभी को मार्गदर्शन प्राप्त होता है। शिक्षकों के द्वारा राष्ट्र निर्माण के लिए दी गई शिक्षाएं हमारा सदैव मार्गदर्शन करती रहेंगी।

एक छोटे से गांव में जन्मे APJ Abdul Kalam का राष्ट्रपति पद तक का सफर

बता दें कि भारत में हर साल 5 सितंबर को डॉ. राधाकृष्णन की जयंती को टीचर्स डे के रूप में मनाया जाता है। भारत के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. एस राधाकृष्णन एक दार्शनिक, राजनेता, लेखक और कूटनयिक थे। शिक्षा के क्षेत्र में उनका योगदान सभी के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने पूरी दुनिया को भारतीय दर्शन से अवगत कराया।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned