एयर इंडिया की 'पायलट' बनेंगी मीनाक्षी!

Highlights.
- मीनाक्षी मल्लिक ने कंसोर्टियम बनाकर एयर इंडिया को खरीदने के लिए भरा ईओआई

- जिस कंपनी से वाणिज्यिक निदेशक पद से रिटायर हुईं, उसी की मालकिन बनने की लड़ाई

 

नई दिल्ली.

देश का नेशनल कैरियर एयर इंडिया को दूसरी बार बेचने की कोशिश हो रही हैं। टाटा समूह से लेकर तीन बड़े समूहों ने खरीदने की इच्छा जाहिर की है। हालांकि इनमें सबसे ज्यादा चर्चित चेहरा सामने आया है तो वह है मीनाक्षी मल्लिक का। जिन्होंने एयर इंडिया के 218 कर्मचारियों का समूह 'कंसोर्टियम' बनाकर कंपनी को खरीदने के लिए ईओआई भरी है।

हालांकि सरकार पांच जनवरी को यह स्पष्ट करेगी कि किन समूहों को बोली लगाने की पात्रता होगी। मीनाक्षी के इस समूह को भी बड़ा दावेदार माना जा रहा है। मीनाक्षी ने दावा किया है कि वह कर्मचारियों और फाइनेंसर के सहारे पूंजी जुटा लेंगी, लेकिन कंपनी का प्रबंधन पूरी तरह से कर्मचारियों के पास ही रहेगा। मीनाक्षी कंपनी खरीदने की इस मेहनत में उन पायलटों को भी साथ लाने में सफल रही हैं, जो अभी तक एयर इंडिया मैनेजमेंट का विरोध करते रहे हैं।

खैर, सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि आखिर मीनाक्षी हैं कौन? दरअसल, मीनाक्षी एयर इंडिया की वाणिज्यिक निदेशक रही हैं। उन्होंने 1989 में कोलकाता में एयर इंडिया से मैनेजमेंट ट्रेनी के तौर पर शुरुआत की और 31 साल के सफर में बोर्ड मेंबर बनने तक का हौसला पाया। वंदे भारत मिशन में भी उनकी अहम भूमिका रही। इस खरीदी की मीनाक्षी का कहना है, वित्तीय साझेदार मिलने के कारण हमारे समूह के सहयोगियों को प्रति व्यक्ति एक लाख से ज्यादा का भार नहीं पड़ेगा।

कर्मचारी ज्यादा बेहतर तरीके से चलाएंगे
मीनाक्षी का कहना है कि किसी और की तुलना में कर्मचारी एयरलाइन को ज्यादा अच्छे तरीके से समझ सकते हैं। हम एयरलाइन को अच्छे से जानते हैं और हमें पता है कि दिक्कतें कहां हैं। हम जीतने या हारने के लिए नीलामी में हिस्सा नहीं ले रहे हैं, हम इसलिए कर रहे हैं क्योंकि हमें विश्वास है कि हम एयरलाइन को अच्छे से चला सकते हैं।

इंटरअप्स भी दौड़ में
अमरीकी फर्म इंटरअप्स इंक ने एयर इंडिया के लिए फिजिकल बिड दी, यह बात उसके फाउंडर लक्ष्मी प्रसाद ने बताई है। सरकारी एयरलाइन कंपनी की खरीदारी के लिए फिजिकल बिड देने की अंतिम तारीख 29 दिसंबर थी। कंपनी के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट देने वाले तीन बिडर्स में एक इंटरअप्स शामिल है। इंटरअप्स ने एयर इंडिया के कर्मचारियों के साथ कंसॉर्शियम बनाने और उनको मैजोरिटी 51 पर्सेंट स्टेक देने की पेशकश की है।

5 जनवरी को होगी शॉर्टलिस्टिंग
सरकार एयरलाइन के लिए सभी बिड मिलने के बाद 5 जनवरी को बिडर्स को शॉर्टलिस्ट करेगी। अगले दौर में बिडर्स को ड्यू डिलिजेंस करने दिया जाएगा, उनको कंपनी के ज्यादा डेटा और इनफॉर्मेशन एक्सेस करने की इजाजत होगी।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned